Breaking News

Big breaking: उत्तराखंड में चुनाव पूर्व सियासी ड्रामा चालू आहे । अब हरक सिंह रावत को पार्टी और केबिनेट से निकाले जाने की खबर : देर रात हुआ सब कुछ पढ़िए @हिलवार्ता BIG NEWS: लक्ष्य सेन इंडिया ओपन जीते, फाइनल में 24-22,21-17 से विश्व विजेता खिलाड़ी को दी शिकस्त,पूरी खबर @ हिलवार्ता Big Breaking : लक्ष्य सेन India Open Badminton 2022 के फाइनल में पहुँचे, विश्व चेम्पियन लोह किन यू से होगा मुकाबला : पूरी खबर @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022 : पर्वतीय क्षेत्रों में कम लोग कर रहे मतदान, 2017 का ट्रेंड जारी रहा तो कई दलों का चुनावी गणित होगा प्रभावित, विशेष रिपोर्ट @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022: हलद्वानी में मेयर डॉ जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला ही होंगे भाजपा के खेवनहार, सूत्रों से खबर @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

एक दिन पहले अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने इंजीनियरिंग के लिए गणित भौतिकी और रसायन विज्ञान की अनिवार्यता खत्म करने की बात कही । और 24 घण्टे बाद ही अपने निर्णय से रोलबैक भी कर लिया है आइए AICTE के क्या कहा पढ़ते हैं ..

फिजिक्स, मेथ्स ,केमिस्ट्री के बिना भी अब इंजीनियरिंग हो सकती है । जी हां यह गॉसिप नही हकीकत बनने जा रहा है । AICTE (अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने 2021-2022 से पहले के नियम को बदलकर इन तीन विषयों की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है । यानी मैथ्स फिजिक्स अब वैकल्पिक विषय के तौर पर गिने जाएंगे । अब अगर आप अन्य स्ट्रीम के विद्यार्थी हैं तो भी आपके इंजीनियरिंग करने के रास्ते खुले हैं ।

इस बदलाव को लेकर AICTE ने कहा है कि यह निर्णय विविध प्रष्ठभूमि से इंजीनियरिंग के लिए इच्छुक छात्रों को राहत देने के लिए किया गया है । परिषद ने नियमो में संशोधन करते हुए बारहवीं कक्षा में गणित,भौतिक विज्ञान,रसायन शास्त्र,कम्प्यूटर साइंस,इलेक्ट्रॉनिक्स, सूचना प्रौद्योगिकी, जैव प्रौद्योगिकी, तकनीकी व्यवसायिक विषय,इंजीनियरिंग ग्राफिक्स,व्यवसायिक अध्ययन, एंटरप्रेन्योरशिप विषयों कुल 14 विषयों को इसमे शामिल किया है ।इसका मतलब हुआ कि अगर बारहवीं में इन 14 विषयों में कोई भी तीन विषय मे अगर आपने पढ़ाई की है तो आप इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए पात्र हैं ।

दरसल अभी तक की इंजीनियरिंग( BE/B. Tec.) करने के लिए अनिवार्य विषय मैथ्स,और फिजिक्स विषय की अनिवार्यता थी जो अब समाप्त हो जाएगी । यानी अब इंटरमीडिएट में जीवविज्ञान विषय पढ़ रहे छात्र के पास भी इन 14 विषयो में कोई तीन विषयों के कॉम्बिनेशन से इंजीनियरिंग के लिए रास्ता खुल जायेगा ।

AICTE के अनुसार आरक्षित श्रेणी में बारहवीं में 40 प्रतिशत अंक और अनारक्षित श्रेणी के छात्रों के लिए 45 अंकों की जरूरत होगी ।हालांकि आज कुछ समाचार साइट्स ने परिषद के इस निर्णय को वापस (रोलबैक) कर दिया बताया गया है । परिषद के चेयरमैन ने स्पष्ट किया है कि नई शिक्षा नीति के मसौदे में यह कवायद अभी नही बल्कि आगे की नीति का हिस्सा हो सकता है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

, , , , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments