Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड :आज सुबह राज्य के रुद्रपयाग जिले के जोशीमठ में 4.6 तीव्रता वाला भूकंप आया आज प्रातः 5 बजकर 58 में आए भूकंप का केंद्र नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी के अनुसार जोशीमठ से 31 किमी पश्चिम दक्षिणपश्चिम में बताया जा रहा है ।

बताया जा रहा है कि आज आए भूकंप का केंद्र 5 किमी अंदर था । जिसके झटके चमोली रुद्रप्रयाग अल्मोड़ा पिथौरागढ़ चंपावत जिलों मे महसूस किए गए ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता

राहत की बात रही कि आज अभी तक किसी तरह के जान माल के नुकसान की खबर नहीं है । ज्ञात रहे कि उत्तराखंड में 19 मार्च 1999 में चमोली जिले में लगभग इसी तीव्रता के भूकम्प में 103 लोगों की जान चली गई थी । विशेष तौर पर उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में बड़े भारी निर्माणों से बचना जरूरी है जिससे कि ऐसी परिस्थितियों में जानमाल के नुकसान को न्यून किया जा सके ।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता

इसी क्षेत्र में 2017 में 5.1तीव्रता का भूकंप आ चुका है । भूगर्भ वेता उत्तराखंड के उच्च हिमालयी इन क्षेत्रों को भूकंप की दृष्टि से अति संवेदनशील मानते हैं और आशंका जता चुके हैं कि इस तरह के कई छोटे बड़े भूकंप आते रह सकते हैं । हिमालय में बड़े भूकंपों की संभावना के चलते ही बड़े निर्माणों और कच्चे पर्वतीय भूभाग में किसी तरह की छेड़छाड़ की मनाही भी पर्यवारण विशेषज्ञ करते रहे हैं ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

, , , , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments