Breaking News

Doctor,s Day 1st july 2022 special report:”अग्रिम मोर्चे पर फैमिली डॉक्टर,थीम के साथ Doctor,s Day सेलिब्रेशन आज. डॉ एन एस बिष्ट का विशेष आलेख पढिये @हिलवार्ता Dehradun : धामी सरकार के 100 दिन पूरे, शिक्षा मित्र और अतिथि शिक्षकों का मानदेय बढ़ा,खबर@हिलवार्ता Uttrakhand:हिमांचल की तर्ज पर राज्य में ग्रीन सेस लगाए जाने की जरूरत, बेतहासा पर्यटक,धार्मिक टूरिस्म प्राकृतिक संसाधनों पर भारी,पढ़ें@हिलवार्ता Haldwani : प्रसिद्ध लोक साहित्यकार स्व मथुरा दत्त मठपाल स्मृति दो दिवसीय कार्यशाला 29-30 जून एमबीपीजी में,100 कुमाउँनी कवियों के कविता संग्रह का होगा विमोचन, खबर@हिलवार्ता Uttrakhand : मानसून ने दी दस्तक, राज्य के मैदानी क्षेत्रों में हल्की बारिश के बाद तापमान में गिरावट, मुनस्यारी ने तेज बारिश के बाद सड़क यातायात प्रभावित,खबर@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी स्थानीय बुद्ध पार्क में आज एक्टू ने केंद्र सरकार द्वारा जारी श्रम कोड का विरोध किया है । देश व्यापी प्रदर्शन के तहत एक्टू ने श्रम कोड जलाओ’ के तहत श्रम कोड की प्रतियां जलायी । ऐक्टू के राष्ट्रीय आह्वान पर ‘‘श्रम कोड का विरोध किया जा रहा है इन कानूनों को रद्द करने की मांग की जा रही है ।

देश भर में 1 फरवरी से 15 फरवरी तक चलने वाले इस अभियान में 15 फरवरी को सभी राज्यों की राजधानियों और जिला मुख्यालयों पर एक दिवसीय धरने दिये जाने का एलान हुआ है ।विरोध में ऐक्टू से जुड़ी यूनियनें प्रतिभाग कर रही हैं ।

बुद्ध पार्क हल्द्वानी

हल्द्वानी स्थित बुद्ध पार्क में एकत्र श्रमिकों को संबोधित करते हुए ऐक्टू के प्रदेश महामंत्री के के बोरा ने कहा कि,एक ओर केंद्र सरकार “किसानों की जमीन छीनकर अंबानी-अडानी सरीखे काॅरपोरेट घरानों के हवाले करने को आमादा है वहीं देश मे श्रम कानूनों को ढीला कर कॉरपोरेट को फायदा पहुचाने की कवायद की जा रही है ।नए कानून आम आदमी को खाद्य सुरक्षा से भी वंचित करने का षड्यंत्र किया जा रहा है सरकार पीडीएस प्रणाली समाप्त कर हर आदमी को चौराहे पर लाकर खड़ा करना चाहती है ।ज्ञात रहे कि हालिया केंद्र ने 4 श्रम कानून (कोड) बना पूर्व में बने केंद्रीय स्तर पर 44 श्रम कानूनों और कई राज्य कानूनों को खत्म कर दिया है । 4 ऐसे श्रम काेड सहित 12 घण्टे काम करने के कानून से केंद्र कॉरपोरेट के हाथों मजदूरों को गिरवी रखने की मंशा रखती है जिसका ट्रेड यूनियन संगठनों ने पुरजोर विरोध करने का निर्णय लिया है । एक्टू नेता ने कहा कि सरकार ने मजदूरों के पक्ष में सुझाव दरकिनार करते हुए तानाशाही रवैया अपनाया है ।सभा को संबोधित करते हुए एक्टू नेता डॉ कैलाश पाण्डेय ने कहा कि बेरोजगार हुए 9 करोड़ से अधिक बेरोजगारों के दुबारा नौकरी पाने की संभावनाएं इन कानूनों के बाद समाप्त होती जा रही हैं । ऐसे कानूनों से श्रमिक वर्ग का शोषण बढेगा और पूँजीपति मालामाल होंगे ।

ऐक्टू के इस राष्ट्रव्यापी अभियान की मांगों में मजदूरों की गुलामी के 4 श्रम कोडों को रद्द करने, 3 कृषि कानूनों को रद्द करने, 12 घंटे का कार्य-दिवस का विरोध ,सहित 2021 के बजट में सभी मजदूरों को समुचित लाॅकडाउन मुवावजा देने,असंगठित मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी देने, स्वास्थ्य बीमा लागू करवाना, शामिल है ।

कार्यक्रम में ऐक्टू प्रदेश महामंत्री के के बोरा, डॉ कैलाश पाण्डेय, सनसेरा श्रमिक संगठन के अध्यक्ष दीपक काण्डपाल, महामंत्री जोगेन्दर लाल, गणेश दत्त तिवारी, बीएसएनएल कैजुअल एंड कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स यूनियन के ललितेश प्रसाद, नवीन काण्डपाल, चन्द्रा सिंह, सोनू सिंह, पूर्व सैनिक एन डी जोशी, क्रालोस के मोहन मटियाली आदि शामिल रहे।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

, , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments