Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

कोरोना की रफ्तार बढ़ती ही जा रही है रोज नए आंकड़े लाखों में आ रहे हैं । भारत मे एक हप्ते में ही 10 लाख से ऊपर संक्रमित मिले हैं जिनमे से सैकड़ों लोग अपनी जान गवां बैठे हैं । नेता अभिनेता आम आदमी सभी इसकी जद में हैं । प्रतिदिन कोई न कोई परिचित इस आपदा से जूझ रहा है । और कई इस संघर्ष में असफल हो रहे हैं ।

आज जाने माने शिक्षाविद व इतिहासकार डा. शिराज अनवर का निधन की खबर आई । दिल्ली में इलाज के दौरान जाने माने शिक्षाविद व इतिहासकार तथा एनसीईआरटी के पब्लिकेशन डायरेक्टर प्रोफेसर सिराज अनवर का निधन हो गया है।
वह कोरोना संक्रमण के चलते नई दिल्ली के एक निजी अस्पताल में भर्ती थे। बुधवार की मध्यरात्रि उनका निधन हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता
File photo pro siraj anwar


मूल रूप से अल्मोड़ा के नृसिंहबाड़ी निवासी प्रोफेसर सिराज अनवर 58 वर्ष के थे। वह पूर्व तहसीलदार हाजी अब्दुल शकूर के पुत्र थे। अलीगढ़ मुस्लिम विवि से उच्च शिक्षा हासिल करने पश्चात वह एनसीईआरटी में उन्होंने सेवा शुरू की। वर्तमान में वह एनसीईआरटी के पब्लिकेशन डायरेक्टर थे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता

डॉ सिराज शिक्षा के साथ साथ सामाजिक कार्यों में मदद के लिए जाने जाते थे पिछले साल कोरोना संक्रमण के दौरान कई लोगों की आर्थिक और खाद्यान्न से सहायता की थी ।

अमन ट्रस्ट के प्रमुख ट्रस्टी रघु तिवारी ने कहा कि डा. सिराज अमन संस्था के संस्थापक सदस्यों में थे। पिछले 45 साल से वह सामाजिक कार्यों और शिक्षा के क्षेत्र में कार्य कर रहे थे। उन्होंने कहा कि डा. सिराज के निधन से शिक्षा और सामाजिक क्षेत्र को अपूरनीय क्षति हुई है। यह कमी कभी पूरी नहीं हो सकती है।
पालिकाध्यक्ष प्रकाश जोशी ने भी सिराज अनवर के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि सिराज सरोकारों से जुड़े व्यक्ति थे उनके सामाजिक और शिक्षा के क्षेत्र में दिए गए योगदान को समाज कभी नहीं भुला पाएगा।
अल्मोड़ा के उनके , सहयोगी साथीयो डॉ नीलिमा ,पुष्कर बिष्ट सहित शिक्षा जगत से डा. सिराज अनवर के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

, , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments