Breaking News

Big breaking:2023 के बाद Johnson & Johnson टेल्क पाउडर होगा बाजारों से गायब, पाउडर में कैंसर के लिए जिम्मेदार अवयव मिलने के बाद भरना पड़ा भारी जुर्माना,पूरी खबर पढिये@हिलवार्ता Good initiative : रामनगर स्थित public school ने उत्तराखंड के आजादी के नायकों की फ़ोटो गैलरी बनाकर की मिशाल कायम,खबर विस्तार से@हिलवार्ता Big Breaking: उत्तराखंड के लाल लक्ष्य सेन ने commenwealth games का स्वर्ण पदक जीत रचा इतिहास,पूरी खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : दुखद खबर: उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष हरीश पाठक का निधन, पूरी जानकारी @हिलवार्ता Haldwani धरना अपडेट :सिटी मजिस्ट्रेट का आश्वासन, एक हप्ते में होगा समाधान ,जलभराव से निजात के लिए चल रहा धरना स्थगित,विधायक भी पहुँचे धरनास्थल,खबर@ हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

नैनीताल बैंक द्वारा आज अपनी 101वीं वर्षगाँठ मनाई । इस अवसर पर बैंककर्मियों ने रैली निकाली और रक्त दान किया । हलद्वानी में प्रातः दस बजे बैंक कर्मियों ने बारिश के वावजूद रैली में बढ़चढ़कर प्रतिभाग किया । स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में निकाली गई इस रैली में बैंककर्मी नैनीताल बैंक आम आदमी का बैंक । नैनीताल बैंक सबसे भरोसेमंद बैंक का नारा लगाते हुए चल रहे थे । जागरूकता रैली के बाद एक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें कई बैंक कर्मियों ने स्वेच्छिक रक्तदान किया । क्षेत्रीय प्रबंधक उमेश चंद्र रूवाली की अगुवाई में सम्पन्न हुए इस समारोह का शुभारम्भ श्री जोगेंदर रौतेला महापौर नगर निगम द्वारा किया गया । हल्द्वानी एमबीपीजी कालेज शाखा में केक काटकर बैंक की 101वीं वर्ष गांठ मनाई गई ।

 

रैली में क्षेत्रीय प्रबंधक उमेश चंद्रा रूवाली,उप क्षेत्रीय प्रबंकधक पंकज टंडन,बी आर जोशी,शाखा प्रबंधक प्रखर पाटनी,पंकज शर्मा,भास्कर शाह सहित अनेक बैंक कर्मचारी मौजूद रहे।


ज्ञात रहे कि गत वर्ष नैनीताल बैंक द्वारा अपनी 100वीं वर्षगांठ मनाई गई । 1922 में पंडित गोविंद बल्लभ पंत के प्रयासों से एक जॉइंट स्टॉक कंपनी के रूप में इसकी स्थापना कराई गई । कुमाऊं अंचल से धीरे धीरे बैंक ने अपना विस्तार किया और देश भर में विशेषकर उत्तरभारत में बैंक की 137 से अधिक शाखाएं कार्यरत हैं । हालांकि हाल ही बैंक के बैंक आफ बड़ोदा में शामिल किए जाने को लेकर चर्चाएं तेज रही । जिसका बैंक यूनियन ने पुरजोर विरोध किया । एक बार स्थिति यहां तक पहुची कि बैंक का विलय ही एकमात्र विकल्प है । लेकिन किसी तरह बैंक कर्मियों की लगन और मेहनत ने इसकी सौवीं अब 101वीं वर्षगाँठ मनाई है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क