Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी के अनुर्जुन मेटरनिटी एवं लेप्रोस्कोपिक सेंटर को एनएबीएच की मान्यता मिली है । डॉ मेजर अपराजिता रावल शहर की प्रतिष्ठित महिला डॉक्टर हैं कालाढूंगी रोड में उनके इस सेंटर को क्वालिटी कॉउन्सिल आफ इंडिया से सम्बद्ध एनएबीएच का सिर्टीफिकेशन मिला है । (NABH) नेशनल एक्रीडिटेशन बोर्ड फॉर हॉस्पिटल्स एंड हेल्थकेयर प्रोवाइडर्स हेल्थ केयर प्रोवाइडर्स के लिए एक भारतीय मान्यता है। यह quality Council of India (QCI) का एक सांविधिक निकाय है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता

एनएबीएच मान्यता अस्पतालों में क्वालिटी कंट्रोल, मरीजों के अधिकार, मरीजों की देखभाल, मैनेजमेंट आफ मेडिकेशन,इन्फेक्शन, कंट्रोल,सेफ्टी मानकों सहित फैसिलिटी आफ मैनेजमेंट,यानी मरीजों को दी जा रही सुविधाओं सहित 100 मानकों और 500 बिंदुओं के आधार पर दिया जाता है । किसी भी अस्पताल को इस सर्टिफिकेशन के लिए कमेटी का गठन किया जाता है जिसमें एथिक्स कमेटी,फार्मेसी,इंफेक्शन कंट्रोल,स्टरलाइजेसन,सेफ्टी क्वालिटी एश्योरेंश,और मैनेजिंग एश्योरेंश शामिल है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता


एनएबीएच का गठन वर्ष 2006 में हुआ जिसका उद्देश्य मरीजों को गुणवत्तापूर्ण इलाज मुहैया कराने के लिए प्रोत्साहित करना है ।
सरकारी और प्राइवेट अस्पताल जिन्हें विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत मरीजों का इलाज करना है के लिए यह सर्टिफिकेशन जरूरी है । एनएबीएच सभी अस्पतालों से देश भर में इसी तरह की सुविधाएं मरीजों को प्रदान करने की अपेक्षा करता है ।इसी वजह कई राज्यों में सरकारी और निजी अस्पतालों में एनएबीएच सर्टिफिकेशन अनिवार्य रूप से लागू है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता

हिलवार्ता मेडिकल डेस्क

, , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments