Breaking News

बिग ब्रेकिंग: इंतजार खत्म,अब कभी भी जारी हो सकता है NEET UG Result 2021, सुप्रीम कोर्ट ने एजेंसी को परिणाम घोषित करने की दी छूट,पूरी खबर @हिलवार्ता बड़ी खबर: उत्तराखंड निवासी राष्ट्रीय (महिला) बॉक्सिंग प्रशिक्षक भाष्कर भट्ट को वर्ष 2021 का द्रोणाचार्य अवार्ड मिला,बॉक्सिंग में उत्तराखंड के पहले अवार्डी बने भट्ट,खबर विस्तार से @हिलवार्ता विशेष खबर: अलमोड़ा निवासी अमेरीकी डिजाइन इंजीनियर का मिशन है हर साल गांव आकर पढ़ाना, और गरीब बच्चों को पढ़ाई के लिए आर्थिक मदद देना,जानिए उनके बारे @हिलवार्ता उत्तराखंड : दो पर्यटक वाहनों की टक्कर में पांच की मौत पंद्रह घायल,दो अलग अलग घटनाओं में एक हप्ते के भीतर 10 बंगाली पर्यटकों की गई जान,खबर विस्तार से @हिलवार्ता उत्तराखंड: नियोजन समिति के चुनाव न कराए जाने पर प्रदेश के जिलापंचायत सदस्य नाराज, एक नवम्बर से काला फीता बांध करेंगे विरोध, और भी बहुत,पढिये@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

भारत मे टीकाकरण की शुरुवात 16 जनवरी को हुई पहले चरण में फ्रंट वर्कर्स को कोविड वैक्सीन लगाई गई । इसी तारीख को उत्तराखंड में भी कोविड वेक्सीन लगी राज्य में पहली वैक्सीन दूंन मेडिकल कालेज के वार्ड बॉय शैलेन्द्र को लगाई गई जिन्हें कुछ समय ऑब्जर्वेशन में रखा गया । सब कुछ सामान्य रहने के बाद राज्य के हर जिले में टीकाकरण का पहला चरण शुरू हुआ ।

दूसरे चरण की शुरुवात एक मार्च से हुई जिसमें 45 से अधिक उम्र वालों को टीकाकरण की शुरुवात हुई । जबकि तीसरा चरण 18 से 45 वर्ष की उम्र के लोगों के लिए, की शुरुवात एक मई 2021 से शुरू की गई ।
शुरुवाती दौर में टीकाकरण के लिए स्लॉट बुक कराना पड़ा टीके के लिए घण्टों इंतजार करना पड़ा लेकिन रफ्तार ठीक ठाक रही जैसे ही टीके की उपलब्धता में कमी आई तब से प्रतिदिन टीकाकरण में कमी आती गई

यह भी पढ़ें 👉  बिग ब्रेकिंग: इंतजार खत्म,अब कभी भी जारी हो सकता है NEET UG Result 2021, सुप्रीम कोर्ट ने एजेंसी को परिणाम घोषित करने की दी छूट,पूरी खबर @हिलवार्ता

बीते 24 जुलाई तक कुल टीकाकरण के सरकारी आंकड़े पर नजर डालें तो टीकाकरण की रफ्तार बढ़ने की वजह कम होती जा रही है इस वजह तय समय सीमा में टीकाकरण को लेकर संसय बना हुआ है ।
देहरादून स्थित एसडीसी फाउंडेशन ने राज्य का वेक्सीनेशन मीटर जारी कर बताया है कि जनजागरूकता को बढ़ाने और सही आंकड़ों से अवगत होने के लिए हर 10 दिन में इसे अपडेट भी किया जा रहा है । फाउंडेशन के अनूप नॉटियाल कहते हैं कि हालिया टीकाकरण की रफ्तार को बढ़ाने की कोशिश की जानी चाहिए । जिससे कि संभावित आगामी खतरों से निपटा जा सके ।

राज्य में टीकाकरण की सुस्त रफ्तार को देखते हुए लगता नहीं कि टीकाकरण के लिए कथित समय सीमा 31 दिसम्बर तक इसे पूरा किया जा सकता है जब तक की प्रतिदिन 66 हजार लोगों को प्रतिदिन टीका लगाया जाए । उत्तराखंड में टीकाकरण की प्रतिदिन लग रही डोज 49,759 है जबकि 31 दिसम्बर तक टारगेट पूर्ण करने के लिए प्रतिदिन 66,157 डोज की जरूरत है ।


उत्तराखंड स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर जारी आंकड़ों के अनुसार राज्य में कोविड वैक्सीन की जरूरत वाले 18 से 44 वर्ष के लोगों 49,34,219 और 45 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों की संख्या 27,95,247 है। इसके अलावा राज्य में रजिस्टर्ड हेल्थ केयर वर्कर्स की संख्या 1,28,002 और फ्रंट लाइन वर्कर्स की संख्या 1,93,216 है। यानी कुल 80,50,684 लोगों का वैक्सीनेशन किया जाना है। हर व्यक्ति को दो डोज के हिसाब में राज्य में वैक्सीन की कुल 1,61,01,368 डोज दी जानी हैं।


24 जुलाई तक हुई वैक्सीनेशन के आंकड़ों पर नजर डालें तो अब तक 42,03,963 लोगों  को पहली डोज और 13,12,281 को दोनों डोज दी जा चुकी हैं। यानी अब तक कुल 55,16,244 डोज वैक्सीन दी गई है। अब 1,05,85,124 डोज वैक्सीन दी जानी बाकी हैं और 31 दिसंबर के लिए अब 160 दिन बाकी हैं। इस तरह से अब हर रोज 66,157 डोज देने की जरूरत है।

राज्य में प्रतिदिन का औसत से साफ जाहिर है कि कुल आबादी को तय सीमा तक टीकाकरण पूरा कर पाने में संसय नजर आता है अगर दृढ़ इच्छशक्ति से कार्य किया जाए तो इसे नियत समय तक पूर्ण किया जा सकता है । अब देखना होगा कि सरकार और उसके मातहत किस कदर सफल होते हैं ।

हिलवार्ता हेल्थ डेस्क की रिपोर्ट

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : दो पर्यटक वाहनों की टक्कर में पांच की मौत पंद्रह घायल,दो अलग अलग घटनाओं में एक हप्ते के भीतर 10 बंगाली पर्यटकों की गई जान,खबर विस्तार से @हिलवार्ता
, , , , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments