Breaking News

Big breaking:2023 के बाद Johnson & Johnson टेल्क पाउडर होगा बाजारों से गायब, पाउडर में कैंसर के लिए जिम्मेदार अवयव मिलने के बाद भरना पड़ा भारी जुर्माना,पूरी खबर पढिये@हिलवार्ता Good initiative : रामनगर स्थित public school ने उत्तराखंड के आजादी के नायकों की फ़ोटो गैलरी बनाकर की मिशाल कायम,खबर विस्तार से@हिलवार्ता Big Breaking: उत्तराखंड के लाल लक्ष्य सेन ने commenwealth games का स्वर्ण पदक जीत रचा इतिहास,पूरी खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : दुखद खबर: उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष हरीश पाठक का निधन, पूरी जानकारी @हिलवार्ता Haldwani धरना अपडेट :सिटी मजिस्ट्रेट का आश्वासन, एक हप्ते में होगा समाधान ,जलभराव से निजात के लिए चल रहा धरना स्थगित,विधायक भी पहुँचे धरनास्थल,खबर@ हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

राजकीय मेडिकल काॅलेज, हल्द्वानी के जनरल सर्जरी विभाग व ई.एनटी विभाग में पी.जी पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने के इच्छुक छात्र- छात्राओं के लिए बड़ी खबर है। राष्ट्रीय आर्युविज्ञान आयोग (एन.एम.सी.) ने उक्त दोनों विभागों में पी.जी पाठ्यक्रम में पुनः प्रवेश की अनुमति प्रदान कर दी है।

विदित हो कि विगत जनवरी 2022 में एन.एम.सीने काॅलेज प्रशासन को पत्र के माध्यम से अवगत कराते हुए जनरल सर्जरी विभाग व ई.एन.टी विभाग मे कुछ कमी के चलते पी.जी पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने पर रोक लगा दी थी।

एनएमसी द्वारा भेजे गये पत्र के जवाब में प्राचार्य डा अरूण जोशी ने जनरल सर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष डा.राजीव सिंह व ईएनटी विभाग के विभागाध्यक्ष डा.शहजाद अहमद को अधिकृत करते हुए एन.एम.सी. के समक्ष काॅलेज प्रशासन का पक्ष रखने हेतु निर्देशित किया गया। डा. राजीव सिंह व डा. शहजाद अहमद ने अपन-अपने विभागों से संबंधित आपत्तियों को एन.एम.सी. के समक्ष स्पष्ट किया, जिसके फलस्वरूप आज 2 फरवरी बुधवार को एन.एम.सी. ने जनरल सर्जरी विभाग में पी0जी पाठ्यक्रम की 9 सीटों व ईएनटी विभाग में पीजी पाठ्यक्रम की 2 सीटों पर पुनः प्रवेश की अनुमति दे दी है ।

गौरतलब है कि राजकीय मेडिकल कालेज ने नेशनल मेडिकल काउंसिल से बिगत वर्ष सर्जरी और ईएनटी विभाग मे पीजी की सीट बढ़ाने का आवेदन किया था टीम ने 26 जून 2020 को मेडिकल कालेज में निरीक्षण पश्चात अपनी रिपोर्ट दी और पाया कि सर्जरी विभाग में तीन असिसटेंट प्रो.और तीन रेजिडेंट डॉक्टर्स की कमी है इसलिए एनएमसी ने मान्यता से इनकार कर दिया था ।

प्राचार्य प्रो. अरुण कुमार जोशी ने बताया कि सभी कालेज द्वारा सभी मानकों को पूर्ण कर लिया गया और एनएमसी को अवगत कराएं जाने के पश्चात अनुमति मिल गई है  । उन्होंएँ खुशी जाहिर करते हुए कहा है कि पीजी मान्यता मिलने से राज्य को अधिक स्पेशलिस्ट डॉक्टर मिल सकेंगे जिनका फायदा राज्य के सुदूरवर्ती क्षेत्रों को मिल सकता है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

, ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments