Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड के कुमाऊँ अंचल में आज खतड़वा मनाया जा रहा है । ऋतु परिवर्तन और पशुधन की सम्रद्धि हेतु मनाया जाने वाला यह पर्व किसानों के लिए  महत्वपूर्ण त्योहार है । कृषि पशुपालन से विमुख  अधिकांश आबादी अब खतड़वा को लेकर अधिक उत्साहित नही दिखती है  ।

देश के ग्रामीण इलाकों में पशुधन की सम्रद्धि हेतु मनाए जाने वाले त्योहारों की तरह ही खतड़वा कुमाऊँ अंचल के महत्त्वपूर्ण त्योहार रहा है  जो सदियों से पशुवों की मंगलकामना के लिए मनाया जाता है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता

पशुवों  के रोग उन्मूलन के लिए सामूहिक दहन स्थल (फ़ोटो)

आज के दिन  किसान अपनी गोशाला की साफ सफाई कर उन्हें शीतकाल के लिए तैयार करते हैं । पशुवों की साफ सफाई के साथ ही उनके खुर ( नाखून) और सींगों की सफाई करते हैं । बारिश के सीजन में घर की सीलन को हटाया जाता है गौशाला में किसी तरह के जीवाणु को नष्ट करने के लिए मशाल जलाकर धुवां लगाने की परंपरा है ।

यह भी पढ़ें 👉  दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता

सामूहिक रूप से शाम के समय किसी स्थान पर घासफूस का बड़ा पुतला बनाया जाता है । जिसमे प्रत्येक घर के लोग अपनी गोशाला से कथित बीमारी को खास तरह के पत्तों और मशाल के सहारे समेटकर उक्त स्थान में समहुक तौर पर दहन कर नष्ट करते हैं ।

जानवरों की बीमारी मुक्ति के लिए पारंपरिक गीत गाकर आगामी सीजन में सुख समृद्धि की कामना की जाती है । पुतला दहन स्थल पर ककड़ी ले जाने की प्रथा है । हर घर से ले जायी जाने वाली ककड़ी का एक हिस्सा चढ़ने के बाद प्रसाद के रूप में घर के सदस्यों में बाटी जाती है । इस तरह गांव और पशुधन की बेहतरी की कामना के साथ त्योहार का समापन होता है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता

हिलवार्ता न्यूज डेस्क की रिपोर्ट 

, , , , , , , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments