Breaking News

Doctor,s Day 1st july 2022 special report:”अग्रिम मोर्चे पर फैमिली डॉक्टर,थीम के साथ Doctor,s Day सेलिब्रेशन आज. डॉ एन एस बिष्ट का विशेष आलेख पढिये @हिलवार्ता Dehradun : धामी सरकार के 100 दिन पूरे, शिक्षा मित्र और अतिथि शिक्षकों का मानदेय बढ़ा,खबर@हिलवार्ता Uttrakhand:हिमांचल की तर्ज पर राज्य में ग्रीन सेस लगाए जाने की जरूरत, बेतहासा पर्यटक,धार्मिक टूरिस्म प्राकृतिक संसाधनों पर भारी,पढ़ें@हिलवार्ता Haldwani : प्रसिद्ध लोक साहित्यकार स्व मथुरा दत्त मठपाल स्मृति दो दिवसीय कार्यशाला 29-30 जून एमबीपीजी में,100 कुमाउँनी कवियों के कविता संग्रह का होगा विमोचन, खबर@हिलवार्ता Uttrakhand : मानसून ने दी दस्तक, राज्य के मैदानी क्षेत्रों में हल्की बारिश के बाद तापमान में गिरावट, मुनस्यारी ने तेज बारिश के बाद सड़क यातायात प्रभावित,खबर@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी:

आशा हेल्थ वर्कर्स की देश व्यापी एकदिवसीय हड़ताल में उत्तराखण्ड आशा हेल्थ वर्कर्स यूनियन से जुड़ी आशाओं ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। महिला हॉस्पिटल के सम्मुख धरना प्रदर्शन करते हुए समान वेतन सहित 20 सूत्रीय मांग पत्र उपजिलाधिकारी हल्द्वानी कार्यालय के माध्यम से पीएम को भेजा गया जिसकी प्रतिलिपि केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को भी भेजी गई।

उत्तराखण्ड आशा हेल्थ वर्कर्स यूनियन के धरने पर प्रदेश महामंत्री डॉ कैलाश पाण्डेय ने कहा कि, “हमारा देश आजादी के बाद, सबसे बड़ी स्वास्थ्य चुनौती का सामना कर रहा है- कोविड -19 महामारी ने हमारे देश की स्वास्थ्य प्रणाली की प्रमुख कमजोरियों को उजागर कर दिया है। स्वास्थ्य संकट और कुपोषण को दूर करने के लिए सरकारों के प्रयास पूरी तरह से सार्वजनिक क्षेत्र के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और आशा जैसे फ्रंटलाईन वर्कर्स पर निर्भर हैं। आशा वर्कर्स सरकार और लोगों के बीच की कड़ी है, पूरे देश में लगभग 10 लाख आशा वर्कर्स छुट्टी के बिना, चौबीसों घंटे ड्यूटी कर रही हैं; उन्हें घर-घर जाकर सर्वेक्षण करने, कोविड संक्रमण मामलों की रिपोर्ट करने, टेस्ट करवाने, संक्रमितों को चिकित्सा सहायता प्राप्त करने में मदद, रोगियों की निगरानी करने, ठीक होने वाले व्यक्तियों का फॉलोअप आदि करने के लिए कहा जाता है। ये काम एक दिन में लगभग 8-9 घंटे की टीकाकरण ड्यूटी के अलावा हैं। लेकिन आशा समेत सभी स्कीम वर्कर्स को बिना न्यूनतम वेतन, बिना कर्मचारी के दर्जे के बहुत खराब कामकाजी परिस्थितियों में काम करना पड़ रहा है।

पांडे ने 45वें और 46वें भारतीय श्रम सम्मेलनों सहित विभिन्न मंचों की सिफारिशों के बावजूद, आशाओं को श्रमिकों के रूप में मान्यता नहीं दिया जाना अफसोसजनक है ।

Photo @ dhrana sthal haldwani

 

24 सितम्बर की एकदिवसीय राष्ट्रीय हड़ताल के धरना प्रदर्शन में महामंत्री पाण्डेय, रिंकी जोशी, रीना बाला, भगवती बिष्ट, सरोज रावत, दीपा बिष्ट, पुष्पलता, प्रीति रावत, तबस्सुम जहाँ, रेशमा, मुन्नी गजरौला, रेखा आर्य, नीमा, चम्पा मेहरा, यशोदा बोरा, माया टंडन, शहनाज, मीना केसरवानी, शहाना, अनिता देवल, ममता पपनै, चम्पा मंडोला, रेखा पलड़िया, अनुराधा, मोहिनी बृजवासी, बीना जोशी, अनिता सक्सेना, कंचन, लीला पठालनी, ममता आर्य, गंगा आर्य, मीना, रेनू दीप, हंसी उप्रेती, तारा देवी, सुनीता, हेमा रंगवाल, हेमा गैड़ा, माया साह, सावित्री आर्य, गंगा साहू, शांति नेगी, सावित्री अधिकारी, उमा दरमवाल, मंजू, पार्वती बिष्ट, अर्शी, भगवती बेलवाल, तारा थापा, कविता बिष्ट, पुष्पा जोशी, खष्टी जोशी, लता तिवारी, गोविंदी लटवाल, हंसी पडियार, शकुंतला धपोला, कविता भट्ट, गीता पाण्डे, भगवती फर्त्याल, दया पाण्डे, बीना उपाध्याय, रेखा मेहता,नंदी मेवाड़ी, विनीता मटियाली, खीमा बिष्ट, दीपा आर्य, कमला आर्य,रोशनी आर्य, हेमा पाण्डे, जानकी पलड़िया, मंजू देवका, मुन्नी दुर्गापाल, प्रेमा रौतेला, रेखा आर्य, खीमा देवी, मंजू बोरा, रेखा आर्य, दीपा देवी समेत बड़ी संख्या में आशाएँ सम्मिलित रहीं।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

, , , , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments