Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

संभावित कोविड की तीसरी लहर को देखते हुए उत्तराखंड सरकार को
एसडीसी फाउंडेशन ने तैयारी को लेकर आगाह किया है । फाउंडेशन पिछले काफी समय से उत्तराखंड में कोविड विहेवियर पर आंकड़ों सहित कई तरह के शोध कर रहा है ।

संस्था के संस्थापक ने इस संदर्भ में स्वास्थ्य मंत्री उत्तराखंड को पत्र लिखा है और सुझाव दिया है कि जो गलतियां पहले हुई हैं अगर उन्हें रोक लिया जाए तो संक्रमण से होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है । संस्था के संस्थापक अनूप नौटियाल कहते हैं कि अगर उत्तराखंड मे कोविड की थर्ड वेव को मद्देनजर 10 और बिंदुओं पर काम किया जा सके तो राज्य आपदा से आसानी से निपट लेगा ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता

पत्र में फाउंडेशन ने कहा कि हालांकि राज्य सरकार की ओर से तीसरी लहर से निपटने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं लेकिन दूसरी लहर के दौरान सामने आई समस्याओं को देखते हुए 10 और बिंदुओं पर काम किया जाना जरूरी है। इससे संभावित तीसरी लहर ने निपटने में मदद मिलेगी।

फाउंडेशन ने अपने पत्र में कोविड टेस्टिंग के लिए प्राइवेट लैब के साथ सामंजस्य बनाने, टेस्ट करवाने वाले हर व्यक्ति को रिपोर्ट का इंतजार किये बिना कोविड किट उपलब्ध करवाने, मार्केट में कोविड प्रोटोकॉल की दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित करने, दवाइयों और अन्य मेडिकल उपकरणों की काला बाजारी रोकने जैसे कई सुझाव दिये हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता

पत्र में यह भी कहा गया है कि दूसरी लहर के दौरान जब लोग अपने मरीजों के लिए अस्पतालों में बेड की तलाश कर रहे थे तो स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट पर उपलब्धता गलत दिखाई जा रही थी। कई अन्य जानकारियां भी उपलब्ध नहीं थी। पत्र में कहा गया है कि स्वास्थ्य विभाग की वेब साइट लगातार अपडेट की जानी चाहिए और जरूरत पड़े तो इस काम के लिए वेब मास्टर्स की नियुक्तियां की जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें 👉  दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता

इसके अलावा पत्र में ऑक्सीजन और एंबुलेंस की पुख्ता व्यवस्था करने, विभिन्न कार्यों में सिविल सोसायटी की मदद लेने, संक्रमित परिवारों के लिए भोजन की व्यवस्था करने और हर पेशेंट की काउंसलिंग करने की व्यवस्था अभी से कर लेने का भी सुझाव दिया है।
एक्सपर्ट्स के अनुसार भारत मे तीसरी लहर अक्टूबर तक आ सकती है लिहाजा समय पर तैयारी करनी बहुत आवश्यक है । राज्य को नए स्वास्थ्यमंत्री मिलने के बाद उम्मीद की जा सकती है कि दूसरी लहर के दौरान हुई गलतियों की पुनरावृत्ति नही होए ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

, , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments