Breaking News

Big Breaking : गुरुग्राम में हुई सीए की गिरफ्तारी के विरोध में हलद्वानी के चार्टर्ड अकाउंटेंट मुखर,सीबीआइसी को ज्ञापन सौंपा,जीएसटी रिफण्ड का है मामला,पढ़े @हिलवार्ता Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -


कुमायूं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो डीके नौरियाल ने उत्तराखंड की राज्यपाल सुश्री बेबी रानी मौर्य को पत्र लिखकर इस्तीफे की पेशकश की है प्रो नौरियाल आई आई टी रुड़की में सेवारत रहे हैं दो साल पहले उन्हें कुमायूँ विश्वविद्यालय का कुलपति बनाया गया.
दरसल आई आई टी रुड़की में प्रोफेसर नौरियाल को जो आवास मिला है उस पर से उन्हें आई आई टी प्रशासन हटाना चाहता है कुलपति चाहते हैं कि उनको आई आई टी रुड़की, कुमायूँ विश्वविद्यालय के वीसी का कार्यकाल खत्म होने तक उस आवास से न हटाये ,मामला राज्यपाल महोदया तक पहुचा लेकिन आई आई टी प्रशासन ने उनकी भी नहीं मानी.
देहरादून गए कुलपति ने फ़ोन पर बताया कि उनका पूरे सेवाकाल का घरेलू सामान सब उसी आवास में है अगर उन्हें वहां से हटा कर बाहर कहीं शिफ्ट भी किया जाय तो 10 माह बाद उन्हें अपने पूर्व के पद पर रुड़की ही जाना होगा तब उन्हें आवास की दिक्कत होगी इसलिये उन्होंने इस्तीफे की पेशकश की है प्रोफेसर नौरियाल ने कहा कि उनकी आई आई टी रुड़की में 2022 तक सेवाएं हैं इसलिए उनके लिए आवास का मसला हल होना जरूरी है .
कुलपति का कुमायूं विश्वविद्यालय में 10 माह का कार्यकाल बचा है यही कारण है कि उनको 10 माह बाद आई आई टी में मिले आवास के इतर कोई अन्य आवास आबंटित भी हो तो वह उनके पद के अनुरूप होगा कि नहीं यह भी संसय प्रोफेसर नौरियाल को बना हुआ है अब राज्यपाल उनके इस्तीफे पर क्या प्रतिक्रिया देती है देखना होगा.
प्रो नौरियाल ने बताया कि इस बाबत राज्यपाल महोदया भी आई आई टी रुड़की को पत्र लिख चुकी हैं लेकिन आई आई टी नहीं मानी अब दुबारा राजभवन आई आई टी और प्रो नौरियाल के बीच आवास का मसला हल कर पाती है या नौरियाल का इस्तीफा स्वीकार करती है इस मसले पर हमारी नजर बनी हुई है.

हिलवार्ता न्यूज डेस्क
@ hillvarta. com