Breaking News

बिग ब्रेकिंग: इंतजार खत्म,अब कभी भी जारी हो सकता है NEET UG Result 2021, सुप्रीम कोर्ट ने एजेंसी को परिणाम घोषित करने की दी छूट,पूरी खबर @हिलवार्ता बड़ी खबर: उत्तराखंड निवासी राष्ट्रीय (महिला) बॉक्सिंग प्रशिक्षक भाष्कर भट्ट को वर्ष 2021 का द्रोणाचार्य अवार्ड मिला,बॉक्सिंग में उत्तराखंड के पहले अवार्डी बने भट्ट,खबर विस्तार से @हिलवार्ता विशेष खबर: अलमोड़ा निवासी अमेरीकी डिजाइन इंजीनियर का मिशन है हर साल गांव आकर पढ़ाना, और गरीब बच्चों को पढ़ाई के लिए आर्थिक मदद देना,जानिए उनके बारे @हिलवार्ता उत्तराखंड : दो पर्यटक वाहनों की टक्कर में पांच की मौत पंद्रह घायल,दो अलग अलग घटनाओं में एक हप्ते के भीतर 10 बंगाली पर्यटकों की गई जान,खबर विस्तार से @हिलवार्ता उत्तराखंड: नियोजन समिति के चुनाव न कराए जाने पर प्रदेश के जिलापंचायत सदस्य नाराज, एक नवम्बर से काला फीता बांध करेंगे विरोध, और भी बहुत,पढिये@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

पेशावर विद्रोह के नायक वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली की पुण्य तिथि पर राज्य में कई जगह उन्हें याद किया गया है । कोटद्वार में जहां मैराथन दौड़ आयोजित हुई वहीं देहरादून पौड़ी श्रीनगर नैनीताल में उनके चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई ।

ऐतिहासिक पेशावर विद्रोह 23 अप्रैल 1930 को किया गया जिसे इतिहास की बड़ी घटना के रूप में जाना जाता है । वर्ष 1930 में गढ़वाल की सैनिक बटालियन टुकड़ी को अंग्रेजों ने पेशावर भेज दिया । 23 अप्रैल के दिन पेशावर के किस्सा खानी बाजार में खुदाई करने वाले मजदूरों की आम सभा चल रही थी जिसका नेतृत्व खान अब्दुल गफार खां कर रहे थे ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: नियोजन समिति के चुनाव न कराए जाने पर प्रदेश के जिलापंचायत सदस्य नाराज, एक नवम्बर से काला फीता बांध करेंगे विरोध, और भी बहुत,पढिये@हिलवार्ता

कहीं यह खिदमतगार आंदोलन आजादी आंदोलन की राह न पकड़ ले, इस वजह अंग्रेज हुक्मरानों ने बल प्रयोग का आदेश दे दिया । अंग्रेजों ने आंदोलनकारियों को तितर वितर करने को 72 गढ़वाल बटालियन के साथ वहां मोर्चा ले लिया । भीड़ को हटाने के लिए कैप्टन रीकेट ने जैसे ही गोली चलाने का आदेश दिया उनके पास ही खड़े गढ़वाल बटालियन के वीर चन्द्र भान सिंह भंडारी ने अपने साथयों से इस आदेश को नही मानने को आदेश दे दिया जैसे ही साथी ने सीज फायर को कहा वहां उपस्थित टुकड़ी ने अपनी तनी हुई रायफलें नीचे कर ली ।

यह भी पढ़ें 👉  बिग ब्रेकिंग: इंतजार खत्म,अब कभी भी जारी हो सकता है NEET UG Result 2021, सुप्रीम कोर्ट ने एजेंसी को परिणाम घोषित करने की दी छूट,पूरी खबर @हिलवार्ता

इसी कारण इस घटना को पेशावर विद्रोह कहा गया । चन्द्र सिंह गढ़वाली और साथीयों ने निहत्थे पठानों पर गोली चलाने के आदेश को नकारना, आजादी आंदोलन में बड़ी घटना के रूप में प्रचारित हुआ जिससे आंदोलन को ताकत और अंग्रेजों के खिलाफ एकजुट होकर लड़ने का रास्ता भी प्रसस्त हुआ । पेशावर कांड को एकता के मिशाल के तौर पर देखा जाने लगा । गढ़वाल के इन जाबांज सैनिकों ने पूरे विश्व के लिए दमन की नीति के खिलाफ जनमत भी तैयार करने में मदद दी । जिससे यह वहस भी आगे बढ़ी कि निहत्थे पर वार कायरता की हरकत है ।

यह भी पढ़ें 👉  बागेश्वर : कपकोट की प्रेमा रावत का भारतीय सीनियर क्रिकेट टीम में चयन,ट्रायल में ऑलराउंडर परफॉर्मेंस रही वजह ,पूरी खबर@ हिलवार्ता

पेशावर विद्रोह के नायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की 42 वीं पुण्यतिथि पर वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली उत्थान समिति द्वारा गढ़वाल मैराथन दौड़ का आयोजन किया गया जिसमे प्रदेश स्तरीय विभिन्न आयुवर्ग के धावकों ने शिरकत की ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क की रिपोर्ट 

, , , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments