Breaking News

बड़ी खबर : पीएम की रैली कल देहरादून में, राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा अगर उत्तराखंड से वाकई प्रधानमंत्री को है प्यार, विशेष राज्य का दर्जा लौटाएं कल, और भी हैं मांग ,पढिये @हिलवार्ता उत्तराखंड : कोविड के बढ़ते मामलों के बीच टीकाकरण की स्थिति पर एसडीसी की विस्तृत रिपोर्ट पढ़िए @हिलवार्ता उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी में शिक्षक कर्मचारी मुख्य गेट बंद करने से भड़के, कहा विश्वविद्यालय है कैद खाना नही, नाराज शिक्षक कर्मचारियों ने की नारेबाजी, खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : सुप्रसिद्ध गायक नरेंद्र सिंह नेगी,अब डॉ नरेंद्र सिंह नेगी, हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा, खबर @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर: सुंदरढूंगा घाटी में 17 और 18 अक्टूबर को हुई अतिवृष्टि में मारे गए पांचों बंगाली ट्रैकरों के शव एसडीआरएफ देहरादून के पर्वतारोहियों ने बरामद कर लिए हैं। हालांकि जैकुनी गांव का गाइड अभी भी लापता है। जिला प्रशासन ने कपकोट में पांचों ट्रैकरों का पोस्टमार्टम कर शव स्वजन को सौंप दिए हैं। शवों को दिल्ली के बाद कलकत्ता ले जाया जाएगा।

जिलाधिकारी बागेश्वर विनीत कुमार ने बताया कि एसडीआरएफ-एनडीआरएफ एवं प्रशासन की टीम विगत 6 दिनों से लगातार रेस्क्यू अभियान सफल चलाया। जिसमें देहरादून से आए आठ एसडीआरएफ के पवर्तारोही टीम ने सुंदरढूंगा घाटी से पांचों बंगाली ट्रैकरों के शव मंगलवार को निकाल लिए हैं। तीन शवों को छोटे चौपर और एक शव को बड़े चौपर से कपकोट लाया गया। उन्होंने बताया कि मृतकों के शवो का पोस्टमार्टम कपकोट में उनके परिजनों की मौजूदगी में चिकित्सकों के पैनल द्वारा किया गया।मृतकों के स्वजन विश्वजीत दास, अभिजीत दास, अनूप मंडल ने पांचों शवों की शिनाख्त की। उसके बाद जिला प्रशासन ने जरूरी कागजी कार्रवाई की और शवों को दिल्ली के बाद कलकत्ता भेज दिया है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी में शिक्षक कर्मचारी मुख्य गेट बंद करने से भड़के, कहा विश्वविद्यालय है कैद खाना नही, नाराज शिक्षक कर्मचारियों ने की नारेबाजी, खबर@हिलवार्ता

कपकोट के थानाध्यक्ष मदन लाल ने बताया कि सागर डे (27) पुत्र सलील डे निवासी हावड़ा, पश्चिम बंगाल, सरित शेखर दास (35) पुत्र तूषार कांतिदास निवासी बगनान, हावड़ा, चंद्रशेखर दास (32) पुत्र आलोक दास निवासी बगनान, हावड़ा, प्रितम राय (27) पुत्र प्रमिल कांति राय निवासी नाडिया, पश्चिम बंगाल, साधन बसान (63) पुत्र गंगा राम बसान निवासी जयगिर घाट रोड कलकत्ता के रहने वाले हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : सुप्रसिद्ध गायक नरेंद्र सिंह नेगी,अब डॉ नरेंद्र सिंह नेगी, हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा, खबर @हिलवार्ता

 

सुन्दरढूंगा पिंडारी में मृतक पांच बंगाली ट्रेकर्स की फ़ाइल फ़ोटो 

लोकल गाइड का नही लगा सुराग  बंगाली पर्यटकों के साथ गए लोकल गाइड खिलाफ सिंह दानू का अभी सुराग नही लग पाया है। जबकि उसके साथ गए 5 ट्रेकर्स के शवों को एसडीआरएफ की टीम ने बरामद कर लिया है। लोकल गाइड के कुछ पता नही चलने से उनके परिजनों की चिंता और बढ़ गयी है।

उत्तराखंड में बिगत हप्ते आई आपदा के बाद से राज्य के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में ट्रेकिंग के लिए गए देशी विदेशी चालीस से ऊपर ट्रेकर्स फस गए थे । जिनमें से कुछ लोगों को एसडीआरएफ ने रेस्क्यू कर लिया था लेकिन पिंडारी क्षेत्र के सुंदर ढुंगा क्षेत्र में बंगाली ट्रैकरों और लोकल गाइड की पिछके छह दिन से खोज जारी थी ।

यह भी पढ़ें 👉 

ज्ञात रहे कि इस क्षेत्र में संचार सेवाएं बदहाल हैं खाती गांव सहित इस क्षेत्र में पर्यटन के लिए भारी संख्या में आवाजाही होने के बावजूद संचार व्यवस्था ठीक न होने पर कई सवाल खड़े होते हैं । इस बार भी लापता इन ट्रेकर्स की मौत संचार की उचित व्यवस्था नहीं होना ही माना जा रहा है ।

एसडीआरएफ टीम के सदस्य रेस्क्यू टीम में एसडीआरएफ के दीपक पंत, हृदेश परिहार, बिजेंद्र कुडीयाल, दीपक नेगी, श्रीकांत नोटियाल, यशपाल, अभषेक मंडोली एवं कैलाश परगाई तथा गाइड रोहित शाह, बाछम गांव के निवासी जय सिंह एवं गंगा सिंह तथा जातुली के निवासी भागवत सिंह एवं शेर सिंह रेस्क्यू टीम में शामिल थे।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

, , , , , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments