Breaking News

Big Breaking : लक्ष्य सेन India Open Badminton 2022 के फाइनल में पहुँचे, विश्व चेम्पियन लोह किन यू से होगा मुकाबला : पूरी खबर @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022 : पर्वतीय क्षेत्रों में कम लोग कर रहे मतदान, 2017 का ट्रेंड जारी रहा तो कई दलों का चुनावी गणित होगा प्रभावित, विशेष रिपोर्ट @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022: हलद्वानी में मेयर डॉ जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला ही होंगे भाजपा के खेवनहार, सूत्रों से खबर @हिलवार्ता पिथौरागढ़ : 11 माह पहले सेना भर्ती के लिए मेडिकल फिजिकल पास कर चुके युवा लिखित परीक्षा न होने से परेशान, पूर्व सैनिक संगठन से मिले कहा प्लीज हेल्प, खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : विधानसभा चुनाव नामांकन में 15 दिन शेष, समर्थक बेचैन, उम्मीदवारों का पता नहीं, सीमित समय में चुनावी कैम्पेन से असल मुद्दों के गायब होने का अंदेशा,क्यों और कैसे, पढिये@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

दिल्ली : आज प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरुस्कारों 2021  की घोषणा की गई जिसमें वार्षिक साहित्य अकादमी पुरस्कार,युवा एवं बाल साहित्य पुरस्कार शामिल है घोषित पुरस्कारों में हिंदी के लिए दया प्रकाश सिन्हा, जबकि अंग्रेजी के लिए नमिता गोखले को चुना गया है । कुल 20 भारतीय भाषाओं के लेखकों सहित युवा और बाल साहित्य के अग्रणी लेखकों को यह पुरस्कार दिया जाना है । नैनीताल (उत्तराखंड) निवासी सुप्रसिद्ध लेखक देवेन मेवाड़ी को इस वर्ष 2021 का बाल साहित्य अकादमी पुरस्कार देने की घोषणा आज हुई है । उन्हें उनकी कृति नाटक नाटक में विज्ञान पर दिया गया है ।

इससे पहले देवेंद्र मेवाड़ी केंद्रीय हिंदी संस्थान आगरा से प्रतिष्ठित आत्माराम पुरुस्कार,हिंदी अकादमी दिल्ली से ज्ञान प्रौद्योगिकी सम्मान,भारत सरकार का लोकप्रिय करण पुरुस्कार, सहित भारतेंदु बाल साहित्य पुरुस्कार प्राप्त कर चुके हैं । 73 वर्षीय देवेंद्र मेवाड़ी विज्ञान को किस्सा गोई द्वारा अनूठे अंदाज में समझाते हैं वह स्कूली बच्चों में विज्ञान का निशुल्क प्रचार प्रसार करते हैं और अत्यधिक लोकप्रिय हैं । अभी तक मेवाड़ी 15000 से अधिक बच्चों को अपनी शैली से विज्ञान की बारीकियां साझा करने में सफल हुए हैं ।

मेवाड़ी हालिया दिल्ली में रहते हैं । और उन्होंने यहां रहते हुए कई पुस्तकों का हिंदी अनुवाद भी किया है । सुप्रसिद्ध विज्ञान प्रचार प्रसार की मैगजीन विज्ञान पत्रिका के वह संपादन कर चुके हैं ।

विज्ञान पत्रिका के संपादक और मेवाड़ी के सहयोगी रहे सुभाष चंद्र लखेड़ा बताते हैं कि देवेंद्र मेवाड़ी जैसा विज्ञान के प्रति समर्पण उन्होंने किसी और में नही देखा । वह कहते हैं कि उनकी उम्र के लोग जहां आराम फरमा रहे हैं जबकि मेवाड़ी और तरोताजा होकर विज्ञान के प्रचार प्रसार में लगे हैं ।

देवेंद्र मेवाड़ी  प्रयोगधर्मी लेखक हैं जिन्हें जटिल साहित्य को सरल तरीके से प्रस्तुतिकरण की महारत हासिल है । वह जितना अच्छा लिखते हैं उससे अधिक अच्छा उसका मौखिक वर्णन करते हैं ।
अभी तक उन्होंने विज्ञान और हम,विज्ञाननामा, मेरी विज्ञान डायरी, मेरी प्रिय विज्ञान कथाएं, फसलें कहें कहानी, सूरज के आंगन, सौरमंडल की सैर, विज्ञान बारहमासा सहित बीस से अधिक पुस्तकों का संपादन किया है ।
नैनीताल जिले के सुदूरवर्ती क्षेत्र ओखलकांडा के मूल निवासी देवेंद्र मेवाड़ी ने प्रारंभिक शिक्षा गांव एवम उच्च शिक्षा कुमायूँ विश्वविद्यालय नैनीताल से बनस्पति विज्ञान विषय मे एमएससी, हिंदी में एमए के साथ ही पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है । मेरी यादों का पहाड़ उनकी आत्मकथा संस्मरण है ।

ओपी पांडेय @हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments