Breaking News

Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता Special Report : राज्य में वनाग्नि के अठारह सौ से अधिक मामले, करोड़ों की वन संपदा खाक,राज्य में वनाग्नि पर वरिष्ठ पत्रकार प्रयाग पांडे की विस्तृत रिपोर्ट @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

चन्द्रयान 2 का आज इसरो द्वारा सफल प्रक्षेपण कर लिया गया है,यान ने श्री हरिकोटा से ठीक 2:43 मिनट पर उड़ान भरी है इसरो के प्रमुख के सिवन ने कहा है कि प्रक्षेपण के बाद यान की कार्यप्रणाली ठीक से कार्य करने के संकेत मिल रहे हैं.6 सितंबर को यान के ठीकठाक लैंडिंग करते ही भारत इस तरह के मिशन देशों की सूची में शामिल हो जाएगा और वह एसा करने वाला चौथा देश बन जायेगा

इसरो के मुताबिक अंतरिक्ष यान 22 जुलाई से लेकर 13 अगस्त तक पृथ्वी के चारों तरफ चक्कर लगाएगा.इसके बाद 13 अगस्त से 19 अगस्त तक चांद की तरफ जाने वाली लंबी कक्षा में यात्रा करेगा.19 अगस्त को ही यह चांद की कक्षा में पहुंचेगा.इसके बाद 13 दिन यानी 31 अगस्त तक वह चांद के चारों तरफ चक्कर लगाएगा,1 सितंबर को विक्रम लैंडर ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा और चांद के दक्षिणी ध्रुव की तरफ यात्रा शुरू करेगा.5 दिन की यात्रा के बाद 6 सितंबर को विक्रम लैंडर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा.लैंडिंग के करीब 4 घंटे बाद रोवर प्रज्ञान लैंडर से निकलकर चांद की सतह पर विभिन्न प्रयोग करने के लिए उतरेगा.
आइये जानते हैं इस मिशन के फायदे
चंद्रयान-2 चंद्रमा की सतह पर पानी के प्रसार और मात्रा का अध्ययन करेगा साथ ही चंद्रमा के मौसम का अध्ययन करेगा,
और चंद्रमा की सतह में मौजूद खनिजों और रासायनिक तत्‍वों का अध्‍ययन सहित चंद्रमा के बाहरी वातावरण का अध्ययन करेगा.इसके अलावा जो इस मिशन का बड़ा मकसद है वह भी जानते हैं.
विशेषज्ञों का अनुमान है कि एक टन हीलियम-3 की कीमत करीब 5 अरब डॉलर हो सकती है,चंद्रमा से ढाई लाख टन हीलियम- 3 लाया जा सकता है जिसकी कीमत कई लाख करोड़ डॉलर हो सकती है। चीन ने भी इसी साल हीलियम-3 की खोज के लिए अपना चांग ई 4 यान भेजा था। इसी को देखते हुए अमेरिका, रूस, जापान और यूरोपीय देशों की चंद्रमा के प्रति दिलचस्पी बढ़ी है यही वजह है कि इस मिशन को जरूरी समझा जा रहा है.


हिलवार्ता न्यूज डेस्क
@hillvarta. com