Breaking News

Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता Special Report : राज्य में वनाग्नि के अठारह सौ से अधिक मामले, करोड़ों की वन संपदा खाक,राज्य में वनाग्नि पर वरिष्ठ पत्रकार प्रयाग पांडे की विस्तृत रिपोर्ट @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई के खिलाफ दायर यौन उत्पीड़न का मामला आखिरकार खारिज हो गया है आज इन हाउस पैनल में जस्टिस इंदु मल्होत्रा जस्टिस इंदिरा बेनर्जी और जस्टिस एस ए बोबडे ने यह फैसला सुनाते हुए बताया कि जस्टिस गोगोई पर लगे आरोप सिद्ध नहीं हो सके, आरोप के तौर पर पेश सबूत न्यायधीश पर आरोप साबित नहीं करते इसलिए इस मामले को खारिज कर दिया गया है.
सुप्रीम कोर्ट के आदेश में 2003 में कहा गया है कि इनहाउस पैनल के निर्णयों को नियम के तहत सार्वजनिक नहीं किया जाएगा, यानी पैनल प्रोसिडिंग की जानकारी पब्लिक डोमेन में नहीं आएगी .
जस्टिस गोगोई पर आरोप लगने के बाद उन्होंने इस मामले की जांच करने की बात कही थी साथ ही कहा था कि न्यायपालिका खतरे में है इसलिए इस प्रकरण की जांच होनी चाहिए पूर्व चीफ जस्टिस ऐ के पटनायक की अध्यक्षता में जांच टीम बिठाई गई जिसका निर्णय आज आया है.
पैनल के निर्णय के बाद शिकायतकर्ता को झटका और जस्टिस गोगोई को राहत मिली है अब सवाल है किसी भी नियति से आरोप प्रत्यारोप वह भी चीफ जस्टिस के खिलाफ लग सकते हैं तब आम जन का क्या होगा समझा जा सकता है ऐसे मामलों में कोर्ट की कार्यवाही पर आम जन की नजर होगी कि ऐसे मामले पर कैसे कोर्ट कार्यवाही करेगा,जिससे ऐसे मामलों की पुनरावृत्ति न हो.
हिलवार्ता न्यूज डेस्क
@hillvarta. com