Breaking News

Big Breaking : लक्ष्य सेन India Open Badminton 2022 के फाइनल में पहुँचे, विश्व चेम्पियन लोह किन यू से होगा मुकाबला : पूरी खबर @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022 : पर्वतीय क्षेत्रों में कम लोग कर रहे मतदान, 2017 का ट्रेंड जारी रहा तो कई दलों का चुनावी गणित होगा प्रभावित, विशेष रिपोर्ट @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022: हलद्वानी में मेयर डॉ जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला ही होंगे भाजपा के खेवनहार, सूत्रों से खबर @हिलवार्ता पिथौरागढ़ : 11 माह पहले सेना भर्ती के लिए मेडिकल फिजिकल पास कर चुके युवा लिखित परीक्षा न होने से परेशान, पूर्व सैनिक संगठन से मिले कहा प्लीज हेल्प, खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : विधानसभा चुनाव नामांकन में 15 दिन शेष, समर्थक बेचैन, उम्मीदवारों का पता नहीं, सीमित समय में चुनावी कैम्पेन से असल मुद्दों के गायब होने का अंदेशा,क्यों और कैसे, पढिये@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

दिल्ली : आखिरकार आज 378 दिन से चला आ रहा किसान आंदोलन खत्म हुआ । आज सरकार द्वारा किसानों के मांगों के सम्बंध में लिखित निर्णय की कॉपी निर्गत होने के बाद किसान नेताओं ने आंदोलन स्थल से हटने के निर्णय ले लिया है ।

किसान 11 दिसम्बर तक सिंधु बॉर्डर सहित टिकरी से टेंट पूरी तरह उखाड़ लेंगे । वहीं पंजाब में 113 जगहों पर लगे मोर्चे भी खत्म करने की बात हुई है । किसान संगठन के नेताओं ने कहा है कि 11 दिसम्बर को सिंधु और टिकरी बार्डर से एकसाथ किसान वापस होंगे जिसे फतेह मार्च का नाम दिया गया है । इधर दिल्ली बॉर्डर से टेंट उखड़ना शुरू हो गया है ।

एक साल से अधिक समय तक धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों की मांग केंद्र सरकार ने स्वीकार की इसके बाद किसानों ने हटने का निर्णय लिया, आइये देखते हैं किसानों की मांगों पर क्या सहमति बनी है …

किसानों की बड़ी मांग एमएसपी पर केंद्र सरकार कमेटी बनाएगी, जिसमे संयुक्त किसान मोर्चा के प्रतिनिधि शामिल होंगे । जिन फसलों पर एमएसपी मिल रही है उसे जारी रखा जाएगा । खरीद को भी पूर्ववत रखा जाएगा ।

किसान आंदोलन के दौरान किसानो पर लगे मुकदमे वापस होंगे । किसानों पर उत्तर प्रदेश हरियाणा सहित अन्य राज्यों और रेलवे शामिल है ।700 से अधिक किसान जिनकी मौत हुई है उन्हें उत्तर प्रदेश हरियाणा में भी पंजाब की तरह 5 लाख का मुवावजा दिया जाएगा ।

इसके अलावा बिजली बिल संशोधन पर सम्बंधित पक्षो से बातचीत के बाद निर्णय पर सहमति बनी है । प्रदूषण कानून में भी सेक्सन 15 को हटाने के लिए सहमति बनी है । सेक्सन 15 को लेकर किसानों को बड़ी आपत्ति थी ।

कुल मिलाकर केंद्र की हठधर्मिता,के चलते 700 किसानों की मौत के बाद सरकार ने बिल वापस लिया साथ ही किसानों की मांगें भी मानी । इधर किसान मोर्चा ने इस सारी कवायद के बाद 15 मार्च को समीक्षा बैठक करने का निर्णय लिया है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments