Breaking News

Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता Special Report : राज्य में वनाग्नि के अठारह सौ से अधिक मामले, करोड़ों की वन संपदा खाक,राज्य में वनाग्नि पर वरिष्ठ पत्रकार प्रयाग पांडे की विस्तृत रिपोर्ट @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड: चुनावी साल में नेताओं का इधर से उधर पाला बदलना शुरू हो गया है इसी हप्ते जहां यूकेडी के विधायक प्रीतम पवार ने सत्तासीन भाजपा का दामन थाम लिया है वहीं कांग्रेस विधायक राजकुमार ने भी पाला बदल लिया है 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा ने विपक्षी पाले में सेंध की शुरुवात कर दी है। सूत्रों के अनुसार उत्तराखंड में शिलशिला थमने वाला नही है एक दूसरे दलों के कई नेता इधर से उधर जाने की फिराक में हैं ।

इधर पिछले 24 घण्टे में ही दो और नेताओं के भाजपा में शामिल होने को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है शोशल मीडिया में चर्चा चल रही है कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय और भीमताल विधायक राम सिंह कैड़ा के भी दूसरी तरफ जा सकते हैं। हालांकि अभी सब अस्पष्ट है । नेताद्वय से संपर्क साधने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नही हो पा रहा है ।

कांग्रेस में गुटबाजी हावी है भले ही बाहर से बड़े नेता पार्टी के एकजुट होने की दलीलें दे रहे हैं स्पष्ट है कि राज्य कांग्रेस को गुटबाजी पर लगाम लगाने की दृष्टि से ही पांच अध्यक्षों की नियुक्ति की गई है । गुटबाजी का हाल भाजपा में भी कमोबेस वही है ।

हर विधानसभा क्षेत्र में विधायक की दावेदारी के लिए चार से अधिक लोग लाइन में हैं । ऐसे में चुनावों तक कई असन्तुष्ट पाला बदल सकते हैं । दोनों दलों में भीतरघात भी होते रहा है । जिसके बाद ही पिछली बार भाजपा ने आधा दर्जन बड़े नेताओं को निष्काषित तक कर दिया था । इधर खबर है कि भाजपा केंद्रीय नेतृत्व उत्तराखंड में दुबारा सत्तासीन होने के लिए निष्काषित नेताओं को दुबारा पार्टी में ला सकता है,जिसके बाद पार्टी के भीतर फिर घमासान का अंदेशा बना हुआ है ।

कुल मिलाकर जहां 2022 में भाजपा ने अपने पत्ते फेंटना शुरू कर दिया है वहीं कांग्रेस अभी बहुत पीछे लग रही है हालांकि चुनाव मद्देनजर कांग्रेस ने परिवर्तन यात्रा के जरिये एकजुटता का संदेश दिया है लेकिन जिस तरह बड़े नेताओं के सामने नारेबाजी हुई उससे साफ है कि अभी कांग्रेस की 2022 की राह समतल नही है । राज्य में तीसरे विकल्प के लिए आम आदमी पार्टी जहां कमर कस रही है वहीं उपपा और यूकेडी भी 2022 के चुनाव में अपनी उपस्थिति बनाये रखने की जद्दोजहद में लगी है । साफ है अभी सुरुवात है धीरे धीरे राज्य में 2022 चुनाव तक कई और उथल पुथल देखने को मिलेगी ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

, , , , , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments