Breaking News

बिग ब्रेकिंग: इंतजार खत्म,अब कभी भी जारी हो सकता है NEET UG Result 2021, सुप्रीम कोर्ट ने एजेंसी को परिणाम घोषित करने की दी छूट,पूरी खबर @हिलवार्ता बड़ी खबर: उत्तराखंड निवासी राष्ट्रीय (महिला) बॉक्सिंग प्रशिक्षक भाष्कर भट्ट को वर्ष 2021 का द्रोणाचार्य अवार्ड मिला,बॉक्सिंग में उत्तराखंड के पहले अवार्डी बने भट्ट,खबर विस्तार से @हिलवार्ता विशेष खबर: अलमोड़ा निवासी अमेरीकी डिजाइन इंजीनियर का मिशन है हर साल गांव आकर पढ़ाना, और गरीब बच्चों को पढ़ाई के लिए आर्थिक मदद देना,जानिए उनके बारे @हिलवार्ता उत्तराखंड : दो पर्यटक वाहनों की टक्कर में पांच की मौत पंद्रह घायल,दो अलग अलग घटनाओं में एक हप्ते के भीतर 10 बंगाली पर्यटकों की गई जान,खबर विस्तार से @हिलवार्ता उत्तराखंड: नियोजन समिति के चुनाव न कराए जाने पर प्रदेश के जिलापंचायत सदस्य नाराज, एक नवम्बर से काला फीता बांध करेंगे विरोध, और भी बहुत,पढिये@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

height=”300″ class=”alignnone size-medium
wp-image-3391″
शादी व्याह सहित अन्य अवसरों पर बोतलबंद पानी स्टेटस सिंबल बन गया है पिछले एक दशक में ही बोतलबंद पानी ने बड़ा मार्किट बना लिया है बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियों के ब्रांड अरबों डॉलर का कारोबार कर रहे हैं एजंसी की खबर के अनुसार बाजार में बिक रहा पानी आपके स्वास्थ्य के लिए मुफीद नहीं है.
यह खतरनाक पानी केवल भारत मे बिक रहा है ऐसा नहीं है 9 देशों के बड़े ब्रांड के पानी की गुणवत्ता में गड़बड़ी पाई गई है न्यूयार्क की स्टेट यूनिवर्सिटी के रिसर्चरों ने इन ब्रांड्स के 27 लाट में से कुल 259 बोतलबंद पानी का टेस्ट किया,दिल्ली मुंबई चेन्नई से भी इन ब्रांड्स के सेम्पल लिए गए हैं अमेरिका चीन ब्राजील इंडोनेशिया थाईलैंड मेक्सिको लेबनान केन्या भारत सहित 9 देशों से पानी की जांच की गई है यह बड़ी चौकाने वाली रिपोर्ट है जिसमे दावा किया गया है कि एक लीटर पानी की बोतल में 10.4 माइक्रोप्लास्टिक पार्टिकल पाए गए हैं.
प्लास्टिक पार्टिकल में पोलिएथिलीन,पोलीप्रोपिलीन ,टेपथलेट और नाइलोन के कण मिले हैं जो शरीर के लिए खतरनाक अवयव हैं , भारत में 10 करोड़ गरीब लोग शुद्ध पानी से वंचित है समर्थ आबादी बोतल बंद पानी को सुरक्षित समझ रही है आज की इस रिपोर्ट ने बोतलबंद पानी के बारे में उठ रहे सवालों को जायज ठहराया है भारत मे इन बड़े ब्रांड्स के अलावा 100 से अधिक लोकल ब्रांड्स भी है जिनकी जांच जरूरी हो जाती है.
बहरहाल इसकी गुंजाइस नहीं के बराबर है एक बात ध्यान देने की है भारत मे सरकारी आंकड़ों के अनुसार 10 करोड़ शुद्ध पानी से वंचित हैं इस आंकड़े में बदलाव करना होगा,बोतलबंद पानी पीने वाली आबादी को भी इसमें शामिल करना होगा, भारत मे बिक रहे 90% बड़े ब्रांड इस जांच में स्वास्थ्य के लिए निर्धारित मानकों में फेल हुए हैं,चाहे वह इस विश्वास से पानी पी रही है कि उनकी प्यास शुद्ध निर्मल जल से बुझ रही है .
हिलवार्ता हेल्थ न्यूज़
@ hillvarta.com

यह भी पढ़ें 👉  काम की खबर: दुपहिया वाहन चालक ध्यान दें, 9 माह से 4 साल तक के बच्चे को पहनना होगा हेलमेट,पूरी खबर@हिलवार्ता