Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

गढ़वाल राइफल्स रेजिमेंट के हवलदार राजेन्द्र सिंह नेगी की आठ जनवरी को ड्यूटी के दौरान बर्फ में फिसलकर पाकिस्तान सीमा पार पहुच जाने के बाद केंद्र सरकार द्वारा आवश्यक पहल नहीं किये जाने का आरोप लगाते हुए उत्तराखंड क्रांति दल के कार्यकर्ताओं ने आज बुद्ध पार्क हल्द्वानी में धरना प्रदर्शन किया और मांग की कि केंद्र सरकार राज्य के जवान की वापसी के लिए तुरंत एक्शन में आये ।

वक्ताओं ने कहा कि केंद्र सरकार ने बड़े अधिकारी रहे अभिनंदन और जाधव की वापसी के लिए जिस तरह प्रयास किये इस मामले में चुप क्यों है दो सप्ताह होने को है और नेगी का कोई अता पता नहीं है केंद्र सरकार क्यो नहीं एक गरीब परिवार के सिपाही की कोई कोशिश ढूढने की नही कर रही है यह शर्मनाक है । हवलदार के घर मे कोहराम मचा हुआ है प्रदेश भर से आवाजें उठ रही हैं और सरकार है कि हाथ पर हाथ धरे बैठी है । यूकेडी के दिनेश भट्ट, सुशील उनियाल रवि बाल्मीकि सहित दर्जनभर कार्यकर्ताओं संग पूर्व सैनिकों ने प्रदर्शन किया और हवलदार की शीघ्र वापसी की मांग की ।


ज्ञात रहे कि हवलदार का परिवार देहरादून अम्बीवाला सैनिक कालोनी में रहता है राजेन्द्र सिंह नेगी ने वर्ष 2002 में बतौर सैनिक गढ़वाल राइफल्स में नौकरी जॉइन की । इधर सोशल मीडिया में कई संगठन नेगी की जल्द वापसी पर अभियान चला रहे हैं लेकिन परिवारक सूत्रों के अनुसार परिवार को लगता है कि जिस तरह पूर्व में अभिनंदन और जाधव की खोज के लिए लोगों ने सरकार से मांग रखी और दबाव बनाया इस मामले में उतनी सक्रियता न सरकारी स्तर पर है ना अन्य माध्यमों में । सैनिक का परिवार सदमे में है उसे अपने जाबांज की किसी भी हालत में शकुशल वापसी का इंतजार है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

@hilvarta. com