Breaking News

Big breaking:2023 के बाद Johnson & Johnson टेल्क पाउडर होगा बाजारों से गायब, पाउडर में कैंसर के लिए जिम्मेदार अवयव मिलने के बाद भरना पड़ा भारी जुर्माना,पूरी खबर पढिये@हिलवार्ता Good initiative : रामनगर स्थित public school ने उत्तराखंड के आजादी के नायकों की फ़ोटो गैलरी बनाकर की मिशाल कायम,खबर विस्तार से@हिलवार्ता Big Breaking: उत्तराखंड के लाल लक्ष्य सेन ने commenwealth games का स्वर्ण पदक जीत रचा इतिहास,पूरी खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : दुखद खबर: उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष हरीश पाठक का निधन, पूरी जानकारी @हिलवार्ता Haldwani धरना अपडेट :सिटी मजिस्ट्रेट का आश्वासन, एक हप्ते में होगा समाधान ,जलभराव से निजात के लिए चल रहा धरना स्थगित,विधायक भी पहुँचे धरनास्थल,खबर@ हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

गढ़वाल राइफल्स रेजिमेंट के हवलदार राजेन्द्र सिंह नेगी की आठ जनवरी को ड्यूटी के दौरान बर्फ में फिसलकर पाकिस्तान सीमा पार पहुच जाने के बाद केंद्र सरकार द्वारा आवश्यक पहल नहीं किये जाने का आरोप लगाते हुए उत्तराखंड क्रांति दल के कार्यकर्ताओं ने आज बुद्ध पार्क हल्द्वानी में धरना प्रदर्शन किया और मांग की कि केंद्र सरकार राज्य के जवान की वापसी के लिए तुरंत एक्शन में आये ।

वक्ताओं ने कहा कि केंद्र सरकार ने बड़े अधिकारी रहे अभिनंदन और जाधव की वापसी के लिए जिस तरह प्रयास किये इस मामले में चुप क्यों है दो सप्ताह होने को है और नेगी का कोई अता पता नहीं है केंद्र सरकार क्यो नहीं एक गरीब परिवार के सिपाही की कोई कोशिश ढूढने की नही कर रही है यह शर्मनाक है । हवलदार के घर मे कोहराम मचा हुआ है प्रदेश भर से आवाजें उठ रही हैं और सरकार है कि हाथ पर हाथ धरे बैठी है । यूकेडी के दिनेश भट्ट, सुशील उनियाल रवि बाल्मीकि सहित दर्जनभर कार्यकर्ताओं संग पूर्व सैनिकों ने प्रदर्शन किया और हवलदार की शीघ्र वापसी की मांग की ।


ज्ञात रहे कि हवलदार का परिवार देहरादून अम्बीवाला सैनिक कालोनी में रहता है राजेन्द्र सिंह नेगी ने वर्ष 2002 में बतौर सैनिक गढ़वाल राइफल्स में नौकरी जॉइन की । इधर सोशल मीडिया में कई संगठन नेगी की जल्द वापसी पर अभियान चला रहे हैं लेकिन परिवारक सूत्रों के अनुसार परिवार को लगता है कि जिस तरह पूर्व में अभिनंदन और जाधव की खोज के लिए लोगों ने सरकार से मांग रखी और दबाव बनाया इस मामले में उतनी सक्रियता न सरकारी स्तर पर है ना अन्य माध्यमों में । सैनिक का परिवार सदमे में है उसे अपने जाबांज की किसी भी हालत में शकुशल वापसी का इंतजार है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

@hilvarta. com