Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

सिडकुल सितारगंज सहित पंतनगर औद्योगिक क्षेत्र के श्रमिको में लगातार असन्तोष जारी है दोनो जगह अलग अलग मांगों को लेकर श्रमिक आंदोलनरत है। अधिकतर श्रमिक संगठनों का आरोप है कि कंपनियां कर्मचारियों के पीएफ नहीं जमा कर रही।और उनके कई कर्मचारियों को बिना किसी कारण निकाल दिया जा रहा है । आज इसी बात को शिकायत को लेकर ऑटो लाइन इंजिनियर्स लिमिटेड के कर्मचारी अपने कर्मचारी संगठन के नेताओं और उत्तराखंड क्रांति दल के नेताओं संग हल्द्वानी स्थित श्रम आयुक्त कार्यालय पर जमा हुए और ज्ञापन दिया उन्होंने मांग की कि जल्द ही उन कंपनियों को तलब किया जाय जिन्होंने कर्मचारी भविष्य निधि का पैसा या तो जमा ही नही किया है या हड़पने की नीयत से कर्मचारियों को निकाल दिया है।

वक्ताओं ने कहा है कि सिडकुल में कार्यरत श्रमिको के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है जिसकी जांच आवश्यक है नेताओं ने कहा कि कई कर्मचारी ऐसे भी हैं जो नॉकरी जाने की डर से अपने साथ हो रहे अन्याय को खुलकर नहीं बता पाते हैं इसलिए जरूरी है कि एक सिरे से जांच हो और कर्मचारियों को न्याय मिले ।

श्रमायुक्त हल्द्वानी कार्यालय में ज्ञापन देने जाते कर्मचारी ।

उपश्रमायुक्त को ज्ञापन सौपने के दौरान कहा गया है कि ऐसा नही होने पर कर्मचारी धरना देने पर विवश होंगे। ज्ञापन के समर्थन में उत्तराखंड क्रांति दल के भुवन जोशी,मनोज नेगी,उत्तम बिष्ट,सहित कर्मचारी संगठन के सुशील कुमार, मुकेश,चेतराम,तारा सिंह,हरिराम, सुरेश चंद्र सहित दो दर्जन से अधिक श्रमिक शामिल रहे ।

उक्रांद नेताओ ने कर्मचारियों की मांग को समर्थन दिया और कहा है कि श्रमिकों का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा, अगर समय रहते श्रमिकों की मांगों पर निर्णय नहीं लिया गया तब। उत्तराखंड क्रांति दल। श्रमिकों के समर्थन में किसी भी प्रकार से आंदोलन में शामिल होगा।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क