Breaking News

Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता Special Report : राज्य में वनाग्नि के अठारह सौ से अधिक मामले, करोड़ों की वन संपदा खाक,राज्य में वनाग्नि पर वरिष्ठ पत्रकार प्रयाग पांडे की विस्तृत रिपोर्ट @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी निवासी आरटीआई कार्यकर्ता गुरविंदर सिंह चड्डा की शव यात्रा में हल्द्वानी के आरटीआई कार्यकर्ता सामाजिक कार्यकर्ता सहित शहर के गणमान्य लोगों ने शिरकत की । 20 नवंबर 1960 में सरदार सिंह चड्डा के घर मे जन्म हुआ । 60 वर्ष की उम्र में रात्रि दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई थी । गुरविंदर चड्डा हल्द्वानी के आरटीआई कार्यकर्ता होने के साथ साथ सामाजिक क्षेत्र में सक्रिय रहते थे । मंगल पड़ाव हल्द्वानी में अपने व्यवसायिक प्रतिष्ठान चलाने के साथ ही वह सामाजिक कार्यों के लिये समय निकाल लिया करते थे । चड्डा ने शुशीला तिवारी अस्पताल में निरंतर गरीब असहाय लोगों को निजी स्तर पर सहायता की और व्यवस्थाओं की खामियों को दूर करने की मुहिम चलाई । चड्डा के निधन पर उन्हें सोशल मीडिया में सुबह से ही श्रद्धाजंलि दी जा रही है

अभी हालिया कोविड पीरियड में उन्होंने असहाय बच्चों को मोबाइल फ़ोन देने की मुहिम चलाई थी । अन्ना हजारे आन्दोलन में सक्रियता के गुरविंदर ने शुशीला तिवारी बर्न वार्ड में व्यवस्थाओं को लेकर लंबी मुहिम चलाई । कई गरीबों के इलाज के लिए आर्थिक मुहिम चला कर उन्होंने दर्जनों लोगों की सहायता की जिस वजह उन्हें लोगों ने बहुत सराहा और आज उनके असमय चले जाने पर गहरा दुख व्यक्त किया है


गुरविंदर चड्डा अपने पीछे पत्नी और दो बच्चों को छोड़ गए ।उनकी बेटी गुरलीन चड्डा पेंग्विन पब्लिकेशन की एडिटर हैं बेटा गगनदीप क्रोकरी शॉप चलाते हैं । गुरविंदर अपने सरदार चड्डा के दो बेटों में बड़े थे । उनकी शवयात्रा में आरटीआई कार्यकर्ता चन्द्र शेखर करगेती, हरीश रावत, मेयर जोगेंद्र सिंह रौतेला, सुमित ह्रदयेश, ओपी पांडे, हुकुम सिंह कुंवर, दिनेश मानशेरा, खजाना पांडे, जितेंद्र रौतेला, बृजेश खन्ना, दीपक बलुटिया, विजय बिष्ट, सरोज आनंद जोशी, हरजीत चड्डा , इंद्रपाल सिंह ,वीरेंद्र चड्ढा ,समित टिक्कू ,सहित शिक्ख समुदाय ,व्यापार मंडल के कई लोग शामिल रहे । मुखग्नि गुरविंदर चड्ढा के पुत्र गगनदीप ने दी ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क रिपोर्ट

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments