Breaking News

उत्तराखंड: मूसलाधार बारिश से खतरा बढ़ा, कई सड़कें बंद, नदी-नाले उफनाए, पर्यटकों की हुई आफत, दिन भर की अपडेट@हिलवार्ता विशेष रपट: पूर्व मुख्यमंत्री स्व नारायण दत्त तिवारी को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दी, विशेष श्रद्धांजलि, कल है पूर्व कांग्रेसी नेता का जन्मदिन,पूरी खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड :महानिदेशक विद्यालयी शिक्षा का प्रदेश भर के स्कूल बंद का आदेश जारी, 18 को सभी सरकारी गैर सरकारी स्कूल बंद रहेंगे,पढ़िए@हिलवार्ता मौसम अलर्ट: उत्तराखंड में भी भारी बारिश की आशंका, अलर्ट रहने की हिदायत,जारी हुआ हेल्प लाइन नम्बर,पूरी जानकारी @हिलवार्ता उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -
 देहरादून 05 फरवरी 2019| *गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान* का धरना आज 142वाँ दिवस में प्रवेश कर गया| आज पत्रकारिता में निर्भीकता का प्रतीक, स्वस्थ राजनीति और देश हित के लिए पूर्ण समर्पित रहे उत्तराखंड ही नहीं वरन् देश की अनमोल धरोहर स्व. श्री राजेन टोडरिया जी को उनकी 6वीं पूण्य तिथि पर भावभीनी श्रद्दांजलि दी गई| संघर्ष स्थल पर उन्हें श्रद्दांजलि देने पहुंचे युवाओं ने उनकी प्रकाशित 07 कृतियों का वाचन कर उन्हें अपनी ओर से श्रद्दांजलि दी| जिनमें गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान के युवा आंदोलनकारी एवम् स्व0 श्री राजेन टोडरिया जी के सुपुत्र श्री लुशून टोडरिया ने 'समझदार लोग बाबुओं से मिले', उत्तराखंड बेरोजगार संघ के अध्यक्ष श्री बॉबी पंवार ने 'यमुना के बागी बेटों के लिए कविता', युवा आह्वान के श्री सौरभ ममगाई ने 'बीज से पेड़ हो जाना', प्राउड पहाड़ी संस्था के अध्यक्ष श्री गणेश धामी ने 'जो किताबें कभी नहीं लिखी गईं', श्री ह्रदयेश शाही ने 'पहाड़ों से कैसी क्राँति उतरे', गढ़ सेना के श्री सचिन थपलियाल ने 'यात्राओं के गांव नहीं होते', युवा आह्वान के श्री विनोद बगियाल ने 'टिहरी झील का दर्द', गैरसैंण राजधानी संघर्ष समिति के महासचिव श्री प्रदीप सती ने 'ढोल', कविताओं को पढ़कर श्रद्दांजलि दी| स्व0 राजेन टोडरिया को जनगीतकार श्री सतीश धौलाखंडी ने अपने जनगीत के द्वारा श्रद्दांजलि अर्पित की| गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान के संरक्षक मंडल सदस्य श्री आनंद प्रकाश दुयाल ने अपने पिता कवि स्व मनुज जुयाल की छह कृतियों जिनमें मनुज मंथन, मन्थरा मर्म, ज्योति दान, श्रीदेव श्रद्दांजलि, मुंडेर पर व श्रीमद्भागवतगीता (हिन्दी काव्य में) को उनके पुत्र श्री लुशून टोडरिया को सम्मान स्वरूप भेंट किए| इस अवसर पर संपन्न हुई जनसभा को प्रख्यात मीडिया कर्मी डॉ गोविंद कपटियाल, गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान के रणननीतिकार श्री मनोज ध्यानी, श्री मदन सिंह भंडारी, उत्तराँचल प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष श्री योगेश भट्ट, श्री सौरभ टोडरिया, समाजसेविका सुश्री शीला रावत, सामाजिक कार्यकर्ता श्री त्रिलोचन भट्ट, पत्रकार एवं पूर्व नौ सेनाधिकारी श्री पीसी थपलियाल आदि ने भी संबोध्त कर अपनी भावभीनी श्रद्दांजलि स्व0 श्री राजेन टोडरिया जी को दी| श्रद्दांजलि कार्यक्रम में पहुंचे अन्य महानुभावों में युवा आह्वान के सुश्री चेतना भट्ट व श्री अंकित बिष्ट, गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान के संयोजक श्री लक्ष्मी प्रसाद थपलियाल, श्री हर्ष मैंदोली, श्री सुशील सिंह कैंथुरा, श्री विजय सिंह रावत, श्री अरविंद सिंह नेगी, श्री गोविंद सिंह बिष्ट, श्री शम्भू प्रसाद भट्ट, श्री गौरव टोडरिया, श्री जयदीप सकलानी, डॉ मदन मोहन गौड़, श्री मनोज कुमार बडोला, श्री राकेश चन्द्र सती, श्री कृष्ण काँत कुनियाल, श्री रविन्द्र प्रधान, श्री पूरन सिंह राणा, श्री किरण किशोर, 
उत्तराखण्ड संघर्ष समिति के फाउंडर श्री डीपीएस रावत , व श्री सोहन सिंह आदि बड़ी संख्या में समाजसेवी उपस्थित हुए| श्रद्दांजलि सभा का संचालन राज्य आंदोलनकारी और गैरसैंण अभियानकर्मी श्री मनोज ध्यानी ने किया| श्रद्दांजलि सभा के अंत में दो मिनट का मौन रखा गया| व तदुपरांत गैरसैंण अभियान के सभी युवा अभियानकर्मी गैरसैंण मुद्दे एवम् समूह ग को लेकर आंदोलनकारियों द्वारा आहूत मुख्यमंत्री आवास कूच को समर्थन देने निकल गए|
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: मूसलाधार बारिश से खतरा बढ़ा, कई सड़कें बंद, नदी-नाले उफनाए, पर्यटकों की हुई आफत, दिन भर की अपडेट@हिलवार्ता
समाचार सौजन्य से ….. प्रेस प्रभाग, गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान 9756201936