Breaking News

Big Breaking : लक्ष्य सेन India Open Badminton 2022 के फाइनल में पहुँचे, विश्व चेम्पियन लोह किन यू से होगा मुकाबला : पूरी खबर @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022 : पर्वतीय क्षेत्रों में कम लोग कर रहे मतदान, 2017 का ट्रेंड जारी रहा तो कई दलों का चुनावी गणित होगा प्रभावित, विशेष रिपोर्ट @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022: हलद्वानी में मेयर डॉ जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला ही होंगे भाजपा के खेवनहार, सूत्रों से खबर @हिलवार्ता पिथौरागढ़ : 11 माह पहले सेना भर्ती के लिए मेडिकल फिजिकल पास कर चुके युवा लिखित परीक्षा न होने से परेशान, पूर्व सैनिक संगठन से मिले कहा प्लीज हेल्प, खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : विधानसभा चुनाव नामांकन में 15 दिन शेष, समर्थक बेचैन, उम्मीदवारों का पता नहीं, सीमित समय में चुनावी कैम्पेन से असल मुद्दों के गायब होने का अंदेशा,क्यों और कैसे, पढिये@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

पिछले 72 घंटे से आलाकमान के आगे नैनीताल लोकसभा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को टिकट दिए जाने को दिल्ली बैठे आधा दर्जन समर्थक विधायको के दबाव बाद रावत टिकट पाने में कामयाब रहे हैं देर रात जारी हुई उम्मीदवारों की लिस्ट में हरीश रावत सहित अल्मोड़ा से प्रदीप टम्टा, टिहरी से प्रीतम सिंह, हरिद्वार से अंबरीश कुमार, पौड़ी से मनीष खंडूरी को लोकसभा प्रत्याशी होने की आधिकारिक घोषणा कर दी है ।
नेता विपक्ष और हरीश गुट दबाव बनाए हुए था कि टिकट उसकी झोली आये ,विदित ही है प्रदेश में कई नेता रावत को टिकट दिए जाने के खिलाफ भी थे , वावजूद इसके आलाकमान ने हरीश रावत को ही उम्मीदवार बना दिया है । कांग्रेस के अंतरविरोध को हरीश रावत किस तरह मैनेज कर पाते हैं यह देखना होगा ,पहली लड़ाई रावत को अभी अपने लोगों से ही लड़नी होगी यह निश्चित है । किच्छा सीट से विधानसभा सभा सीट हार के कारण और कई फैक्टर इस चुनाव में भी असर डाल रहे हैं , नैनीताल सीट पर एनडी तिवारी या उनके चहेते समर्थकों को ही जीत मिली है राज्य बनने के बाद रावत और एनडी के बीच के गुटबाजी समीकरण भी इस चुनाव में असर डालेंगे जानकार मानते हैं यह सीट कैसे अपना रुख बदल एक नए चेहरे को किस रूप में स्वीकार करेगी देखना दिलचस्प होगा ।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट पहली दफा लोकसभा चुनाव में उतरे हैं अध्यक्ष होने की वजह संगठन में अच्छी पकड़ दिखती है लेकिन वह भी पिछला विधानसभ चुनाव नहीं जीते है,संगठन में हैं राज्य में सरकार भी भाजपा की है उसके बाबजूद कई फेक्टर हार जीत के बीच काम कर रहे हैं ।
कालाढूंगी से विधायक भगत, पूर्व सांसद कोशियारी सहित पूर्व सांसद बलराज पासी टिकट की दौड़ में रहे हैं इस सबके चलते अभी अंदर खाने कितना प्रतिरोध होगा देखना होगा हाल फिलहाल ठीक ही दिखता है । मुकाबला दिलचस्प बनाने की क्षमता दोनो में है । वैसे एक फेक्टर और है भट्ट और हरीश का बाहरी होना उनको पसीने ज्यादा ही बहाने को मजबूर भी करेगा ।
दो तीन दिन से भाजपा यह कह कर लीड लेने की कोशिश कर ही रही थी कि आज मुख्यमंत्री ने भी इस बात का ज़िक्र किया कि कांग्रेस में टिकट को लेकर असमंजस है । बताया जा रहा है पेशोपेश में पड़े रावत समर्थक टिकट के बाद राहत महसूस कर रहे हैं ।
नैनीताल उधम सिंह नगर सीट भट्ट और रावत के लिए अपने को राजनीतिक करियर बचाये रखने की लड़ाई भी है ,इस सीट पर दोनो इन बड़े दलों की प्रतिष्ठा का भी सवाल है दोनो को चुनाव बाद दिल्ली तलब किया जाएगा ।
कुल मिलाकर इस सीट पर कई समीकरण काम कर रहे है दोनों दलों ने वोटों के ध्रुवीकरण को मद्देनजर ही अपने उम्मीदवार तय किये हैं जिसको राजनीतिक दल नकारते ही हैं । स्थानीय कई मुद्दे लंबे समय से अधूरे हैं जमरानी बांध पर दो दो बार दोनो की सरकार होने के बावजूद कुछ हुआ नही है एच एमटी घड़ी कारखाना बन्द हो गया है ,भाभर में पानी की किल्लत है ट्यूबवेल से जल का दोहन कर, खत्म हो रही जमीनों को बचा पायेगा, तराई में उद्योग धंधों में स्थानीय लोगों को रोजगार सहित बेहाल चिकित्सा ,शिक्षा को पटरी पर लाने जैसे मुद्दे प्रमुख होंगे ? या हवाई धुर्वीकरण के नारों पर चुनाव सिमट जाएगा देखना होगा ।
भाजपा कांग्रेस के अलावा बसपा, सपा, निर्दलीय,सहित भाकपा माले के उम्मीदवार अपने अपने एजेंडे के साथ दौड़ में हैं वोटरों की घेराबंदी के लिए इन पार्टियों के तरकस में कैसे कैसे तीर कमान है किन मुद्दों पर वोटर को लुभाया जाएगा एक दो दिन में सभाओं के बाद स्पष्ट हो जाएगा । पिछले लोकसभा चुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री कोशियारी ने इस सीट पर कब्जा किया था मोदी लहर के चलते उन्हें कोई परेशानी नही हुई अभी 2014 की स्तिथियाँ नहीं है सभी दलों के तरकस में सत्तापक्ष को घेरने के लिए तैयारी है, इस सीट में नित नए राजनीति दांव पेच चलने के आसार हैं , देखना होगा कौन किसको कैसे पटखनी देकर इस सीट पर कब्जा करता है ।

O p pandey
Hillvarta desk
Election special

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : विधानसभा चुनाव नामांकन में 15 दिन शेष, समर्थक बेचैन, उम्मीदवारों का पता नहीं, सीमित समय में चुनावी कैम्पेन से असल मुद्दों के गायब होने का अंदेशा,क्यों और कैसे, पढिये@हिलवार्ता