Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी .आगामी 29 नवम्बर 2019 से तीन दिवसीय,ध्रुवपद खयाल पर्व का आयोजन किया जा रहा है ,इस कार्यक्रम को पंडित चंद्रशेखर पंत शास्त्रीय संगीत मंच प्रतिवर्ष करता है जिसमे देश के जाने माने संगीतज्ञ प्रतिभाग करते हैं। कार्यक्रम स्थानीय जीजीआईसी कालाढूंगी रोड हल्द्वानी में आयोजित है।

तीन दिवसीय आयोजन में सायंकाल आमंत्रित कलाकारों की प्रस्तुतियां एवम दिन में संगीत सीख रहे बच्चों के लिए प्रतियोगिता आयोजित की जाती है इस वर्ष भी मंच ने प्रतियोगिता का चार्टर जारी किया है जिसमे तीन वर्गों बाल/किशोर/युवा वर्ग प्रतिभाग करेंगे । इन वर्गों में कलाकार तबला, गायन, और वाद्य यंत्रों पर अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करेंगे।

जिन्हें परफॉर्मेंस के आधार पर पुरुस्कार दिया जाएगा। प्रतियोगिता प्रातः 10 बजे से आयोजित की जाएगी । 29 नवम्बर सायंकाल प्रथम कलाकार के रूप में उभरते शास्त्रीय गायक पंकज आर्य अपनी प्रस्तुति देंगे। साथ ही उत्तराखंड के उभरते सितार वादक भाष्कर कापड़ी सितार वादन की प्रस्तुति देंगे ।

दूसरे दिन सायं प्रख्यात शास्त्रीय गायक पंडित प्रज्ञान बरुवा खयाल गायन करेंगे इसी दिन प्रसिद्ध तबला वादक पंडित पवन वरदोलोई तबले पर अपना जादू दिखाएंगे , पंडित दीपेंद्र शर्मा वायलिन पर प्रस्तुति देंगे।। अंतिम दिन 1 दिसम्बर को बरेली से पंडित अवधेश गोस्वामी खयाल गायन करंगे। इसी दिन विजेताओं को पुरुस्कार वितरण किया जाएगा ।

पंडित स्व.चंद्रशेखर पंत उत्तराखंड के जाने माने ध्रुवपद खयाल गायक रहे हैं उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय में बतौर संगीत शिक्षक अपनी सेवाएं दी हैं देश भर में उनके शिष्यों की बड़ी जमात है और उनकी याद में आयोजित इस कार्यक्रम में आने को आतुर रहते हैं पिछले कई सालों से मंच इस कार्यक्रम को आयोजित कर रहा है जिसमे देश भर के बड़े घरानों के कलाकार स्व.श्री चंद्रशेखर पंत मंच के आयोजन में प्रतिभागी बनते हैं । इस बार तीन कलाकार सुदूर उत्तरपूर्व से आकर अपनी प्रस्तुति और ध्रुवपद गायक स्व.पंत को याद करंगे।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क