Breaking News

Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता Special Report : राज्य में वनाग्नि के अठारह सौ से अधिक मामले, करोड़ों की वन संपदा खाक,राज्य में वनाग्नि पर वरिष्ठ पत्रकार प्रयाग पांडे की विस्तृत रिपोर्ट @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड के रहने वाले हाल महोबा उत्तर प्रदेश डाइट प्रधानाचार्य कुंदन सिंह रावत के निधन की दुखद खबर है । वर्ष 1989 में अलमोड़ा केम्पस में उपाध्यक्ष रहे कुंदन सिंह रावत ने 1999 में उत्तरप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित पी ई एस परीक्षा उत्तीर्ण की थी ।
कुंदन रावत इंटरमीडिएट के बाद रॉयल इन्फेंट्री में भर्ती हो गए वहां से सेवानिवृत्त होते ही उन्होंने उच्च शिक्षा पाने के लिए अलमोड़ा केम्पस में प्रवेश लिया । और केम्पस की राजनीति में अपना मुकाम बनाया । वर्ष 1999 में उत्तराखंड के कई युवाओं का पी ई एस में सलेक्सन हुआ जिसमे कुंदन रावत भी एक थे ।

कुंदन रावत मेहनती और नेतृत्व क्षमता से भरपूर व्यक्तित्व थे फ़ौज की नॉकरी के बाद उच्च शिक्षा में प्रवेश लेने से लेकर छात्र राजनीति में अपनी छवि बनाना आसान नही है उन्होंने यह साबित किया कि लगन परिश्रम से बहुत कुछ हासिल किया जा सकता है । बीएड की डिग्री लेने के बाद रावत ने लोकसेवा आयोग की परीक्षा पास कर यह साबित किया कि अगर चाह है तो उसे हासिल किया जा सकता है उन्होंने उत्तरप्रदेश जैसे बड़े राज्य में शिक्षा विभाग में अपनी मेहनत से ऊंचा मुकाम बनाया ही था कि उनकी मौत ने उनके चाहने वालों को झकझोर दिया ।

रावत ने बिजनोर इटावा बहराइच में बतौर प्रधानचार्य और इलाहाबाद बोर्ड में सचिव सहित शिक्षा अधिकारी इलाहाबाद बतौर अपनी सेवाएं दी , शिक्षा अधिकारी इलाहाबाद से कुछ समय पहले ही उनकी पोस्टिंग डाइट महोबा में बतौर प्रधानाचार्य हुई थी । पारिवारिक लोगों और उनके मित्रों से मिली जानकारी के अनुसार वह एक दिन पहले ही अपने निवास काशीपुर से महोबा पहुचे थे । आज उनके निधन की खबर मिली । रावत की मृत्यु किस वजह हुई अभी स्पष्ट नहीं है । रावत मूल रूप से रावत सेरा बागेश्वर के रहने वाले थे । उनके निधन पर शिक्षक समुदाय और अलमोड़ा केम्पस में उनके साथ रहे छात्र नेताओं ने गहरा दुख जताया है ।
रावत के निधन पर प्रधानाचार्य फूलचौड़ सोनू मेहता,राजकीय शिक्षक संघ कुमायूं मंडलीय अध्यक्ष विजय गोस्वामी पूर्व छात्र नेता कैलाश अंडोला ओपी पांडे सहित उनके साथियों ने गहरा दुख व्यक्त किया है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments