Breaking News

बिग ब्रेकिंग: इंतजार खत्म,अब कभी भी जारी हो सकता है NEET UG Result 2021, सुप्रीम कोर्ट ने एजेंसी को परिणाम घोषित करने की दी छूट,पूरी खबर @हिलवार्ता बड़ी खबर: उत्तराखंड निवासी राष्ट्रीय (महिला) बॉक्सिंग प्रशिक्षक भाष्कर भट्ट को वर्ष 2021 का द्रोणाचार्य अवार्ड मिला,बॉक्सिंग में उत्तराखंड के पहले अवार्डी बने भट्ट,खबर विस्तार से @हिलवार्ता विशेष खबर: अलमोड़ा निवासी अमेरीकी डिजाइन इंजीनियर का मिशन है हर साल गांव आकर पढ़ाना, और गरीब बच्चों को पढ़ाई के लिए आर्थिक मदद देना,जानिए उनके बारे @हिलवार्ता उत्तराखंड : दो पर्यटक वाहनों की टक्कर में पांच की मौत पंद्रह घायल,दो अलग अलग घटनाओं में एक हप्ते के भीतर 10 बंगाली पर्यटकों की गई जान,खबर विस्तार से @हिलवार्ता उत्तराखंड: नियोजन समिति के चुनाव न कराए जाने पर प्रदेश के जिलापंचायत सदस्य नाराज, एक नवम्बर से काला फीता बांध करेंगे विरोध, और भी बहुत,पढिये@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

पिछले तीन चार दिन पहले पीएम को लिखे पत्र के बाद से बहस का केंद्र बने, कुमायूँ विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ के एस राणा ने हिलवार्ता से विस्तृत बातचीत में कहा कि उनका उद्देश्य उत्तराखंड की जनभावना के खिलाफ नहीं है, और ना ही वह इस मुद्दे पर आगे किसी तरह की बात करना चाहते हैं, और उन्होंने कहा कि उनके बयान /पत्र से किसी भी व्यक्ति/ संस्था को ठेस पहुची है तो वह खेद व्यक्त करते हैं.
यह पूछे जाने पर कि इस तरह का पत्र लिखने की मंशा क्या है और यह भी कि एकेडमिक पद पर बैठे व्यक्ति इस तरह का राजनीतिक बयान किस तरीके से देखा जाए, के जबाब में कुलपति ने कहा कि तीन साल पहले यह मुद्दा उठा था एक मीटिंग में इस विषय पर चर्चा हुई थी इसी को दृष्टिगत यह बात औपचारिक रूप तीन दिन पहले उठी कि राज्य की बेहतरी के लिये क्या किया जाना चाहिए चर्चा के दौरान हुई बातचीत के बीच ही उन्होंने यह पत्र लिखा, जिस पर प्रतिक्रियाओं का सिलसिला चल पड़ा है.
कुलपति कहते हैं वह मूल रूप से राजस्थान के निवासी हैं उनका यूपी के इन जिलों को उत्तराखंड से मिलने मिलाने की कोई स्वार्थ नहीं है ना ही उनका अपना कोई नफा नुकसान है,इसे सिर्फ सुझाव तक रखा हुआ समझा जाना चाहिए.कुलपति से पूछने पर कि उन्होंने किसी राजनीतिक दबाव में इस तरह की बात तो नहीं की.उन्होंने कहा कि यह उनका स्वयं का व्यू पॉइंट था.
हिलवार्ता ने जब कहा कि उत्तराखंड का निर्माण जमीन के भूभाग का बंटवारा नहीं था यह सांस्कृतिक और भोगोलिक आधार पर लंबे आंदोलन के बाद प्राप्त हुआ राज्य है इसलिए इसमें किसी तरह की छेड़ छाड़ उत्तराखंडियों का अपमान होगा, अगर उसी उत्तरप्रदेश के इन जिलों को मिला दें तब राज्य की क्या जरूरत क्यो थी,राज्य की मांग ही दिल्ली और उत्तर प्रदेश में मौजूद राजनितिक दलों की उपेक्षा के कारण हुई तब इस तरह की मांग से राज्य की मूल भावना समाप्त नहीं हो जाएगी.
कुलपति ने कहा कि पलायन और अन्य समस्याओं से निपटने के लिए दिए मेरे सुझाव पर राज्य वासियों को अगर ठेस पहुची है तो उन्हें खेद व्यक्त करने में बिल्कुल भी झिझक नहीं है अब इसे यहीं खत्म कर देना चाहिए.उन्होंने कहा कि वह जानते हैं कि पर्वतीय क्षेत्र गरीबी पलायन से जूझ रहा है इसी लिए उन्होंने कुमायूँ विश्वविद्यालय में बीए एग्रीकल्चर विषय की पैरवी की और कक्षाएं शुरू करवा दी हैं आगे भी विश्वविद्यालय स्तर पर प्रोफेशनल कोर्सेज लाये जा रहे हैं जिससे क्षेत्र के युवाओं को बेहतर जगह रोजगार मिले मेरे प्रयासों को एक बयान से छोटा नहीं किया जाना चाहिए.
लगातार सोशल साइट्स पर छा रहा यह मुद्दा ट्रोल किया जा रहा है कुलपति के बयान पर अलग अलग प्रतिक्रियाएं आना जारी हैं कुलपति ने अपनी प्रतिक्रिया दे दी है अब देखना होगा कुलपति के आज के बयान की क्या प्रतिक्रियाऐं आती हैं.बहरहाल कुलपति एकेडमिक क्रियाकलापों पर केंद्रित होने की बात कर रहे हैं.
हिलवार्ता न्यूज डेस्क
@hillvarta.com

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड आपदा ब्रेकिंग :सुन्दरढूंगा क्षेत्र में एसडीआरएफ को मिली सफलता,लापता पांच बंगाली ट्रेकर्स के शव मिले,कलकत्ता भेजे जा रहे हैं शव,पूरी खबर @हिलवार्ता