Breaking News

Big breaking:2023 के बाद Johnson & Johnson टेल्क पाउडर होगा बाजारों से गायब, पाउडर में कैंसर के लिए जिम्मेदार अवयव मिलने के बाद भरना पड़ा भारी जुर्माना,पूरी खबर पढिये@हिलवार्ता Good initiative : रामनगर स्थित public school ने उत्तराखंड के आजादी के नायकों की फ़ोटो गैलरी बनाकर की मिशाल कायम,खबर विस्तार से@हिलवार्ता Big Breaking: उत्तराखंड के लाल लक्ष्य सेन ने commenwealth games का स्वर्ण पदक जीत रचा इतिहास,पूरी खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : दुखद खबर: उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष हरीश पाठक का निधन, पूरी जानकारी @हिलवार्ता Haldwani धरना अपडेट :सिटी मजिस्ट्रेट का आश्वासन, एक हप्ते में होगा समाधान ,जलभराव से निजात के लिए चल रहा धरना स्थगित,विधायक भी पहुँचे धरनास्थल,खबर@ हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड में पिछले एक माह की कसरत के बाद मतदान का समय निकट आ चुका है । राज्य में चिर परिचित अंदाज में भाजपा कांग्रेस ने एकदूसरे पर आरोप प्रत्यारोप की सीमाएं लांघ दी हैं । राज्य में कई विधानसभा सीटों पर वोटर्स को तरह तरह के प्रलोभन देकर अलोकतांत्रिक कार्य किए जाने की सूचनाएं आज दिन भर मीडिया में तैर रही हैं ।

इधर देवप्रयाग सीट पर जहां कल रात यूकेडी उम्मीदवार मोहित डिमरी पर हमला हुआ है वहीं कई जगह भारी मात्रा में शराब पकड़ी गई है यह इस बात की पुष्टि करता है कि राज्य में चुनाव जीतने के यूपी विहार के हथकंडे अब शांत प्रदेश में भी आजमाए जाने लगे हैं ।

हालिया केबिनेट मंत्री का कथित ऑडियो खूब चला जिसकी सत्तारूढ़ भाजपा ने मजम्मत की । और कहा कि यह उनके प्रतियाशी के खिलाफ कांग्रेस की साजिश है । इसी तरह कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री को एक धर्म विशेष की टोपी पहनाकर खूब वायरल किया गया । जिसकी चुनाव आयोग में शिकायत भी हुई ।

यह शिलशिला राज्य में कई दिन से चल ही रहा था कि  आज आरोप का दौर एक कदम आगे चला गया । चुनाव के लिए कुछ भी करेगा कि तर्ज पर कई सीटों पर नियम कानूनों की धज्जियां उड़ी और कानून की धज्जियां खुद कानून बनाने का दर्जा हासिल करने की रेस में शामिल नेताओं ने खुद ही की ।

आइये देखते हैं आज राज्य में क्या क्या घटनाएं हुई

आज सबसे पहले खटीमा में राज्य के सीएम पुष्कर सिंह धामी और आम आदमी पार्टी के कलेर के बीच गर्मागर्म बहस का vedio सोशल मीडिया में खूब वायरल हुआ है । जिसमे कलेर मुख्यमंत्री पर आचार संहिता के उल्लघन का आरोप लगा रहे हैं यहां तक कि पुलिस की मौजूदगी में पैसे बाटने का आरोप लगाते हुए दिख रहे हैं । जबकि धामी कलेर को झूठ फैलाने से बाज आने को कह रहे हैं । ऐसा ही एक vedio स्टिंग खटीमा के ही कांग्रेस प्रतियाशी का भी मीडिया में वायरल है ।

इधर हलद्वानी में कांग्रेस उम्मीदवार सुमित ह्रदयेश ने भाजपा के जोगेंद्र सिंह रौतेला पर कई इलाकों के मतदाताओं को घर पर बुलाकर पैसे बटाने का आरोप लगाया । यही नही सुमित अपने समर्थकों के साथ कोतवाली में धरने पर बैठ गए ।

शाम भाजपा उम्मीदवार मेयर रौतेला ने एक प्रेस की और कहा कि कांग्रेस उम्मीदवार के होटल ने विगत 10 दिन से यही खेल चल रहा है । इसकी शिकायत उन्होंने भी पुलिस में देकर जांच की मांग कर डाली ।

देर रात्रि 8 बजे के आसपास व्हाट्सएप पर कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल का पार्टी के पैड पर पूर्व सीएम हरीश रावत को संबोधित एक पत्र वायरल हो रहा है जिसमें धामी द्वारा दो दिन पहले दिए गए बयान यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू करने और उसके काउंटर में नया करने की बात लिखी गई है । देर रात्रि कांग्रेस ने इस पत्र की शिकायत चुनाव आयोग में करते हुए कहा कि यह फर्जी लेटर चुनाव को प्रभावित करने की मंशा से भाजपा ने तैयार किया है ।

उधर रुड़की ने पुलिस ने दो लोगों को मतदाताओं को पैसे बाटते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया है । कुसुमखेड़ा हलद्वानी निवासी घनानंद परगाई कहते हैं कि पिछले कई दिनों से इसी तरह के कई मामले राज्य में लगातार आते रहे हैं । काठगोदाम निवासी प्रेम बल्लभ ने कहा कि राज्य में चुनाव प्रचार के लिए पहुचे स्टार प्रचारकों ने जिस तरह राज्य के मुद्दों को दरकिनार कर चुनाव को भटकाने की कोशिश की । ठीक उसी तरह राज्य में मौजूद दलों के उम्मीदवारों की मंशा भी उजागर हुई है । उनका मानना है कि कल मतदान से पहले मूल मुद्दों को भटकाकर आरोप प्रत्यारोप की सोची समझी रणनीति का हिस्सा भी हो सकता है ।

जो भी है दोनों दलों की मंशा किसी तरह राज्य की कुर्सी तक पहुचने तक सीमित है । जिसके लिए वह किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं । यह जनता के ऊपर है कि पांच साल में मिले मतदान के अवसर को वह उम्मीदवार की योग्यता देख उपयोग करती है या छल प्रपंच और पैतरेबाजी की एक बार फिर शिकार होती है । इतना तय है कि राज्य में नेताओं का उद्देश्य सिर्फ सत्ता प्राप्त करने तक सीमित है जिसके लिए वह किसी भी हद तक जा सकते है ।

अलमोड़ा मूल के हाल राधिका कालोनी निवासी  एस कुमार कहते हैं कि राज्य के नेता उत्तराखंड को देवभूमि कहते हैं लेकिन देवभूमि को कलंकित करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं । यह दोहरी मानसिकता राज्य के लिए खतरनाक है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क की रिपोर्ट

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments