Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

साहित्‍य अकादमी ने बाल साहित्‍य पुरस्‍कार और युवा पुरस्‍कार 2019 की घोषणा की आइये पूरा पढ़ते हैं .
साहित्‍य अकादमी ने साहित्‍य अकादमी बाल साहित्‍य पुरस्‍कार 2019 के लिए 22 लेखकों तथा युवा पुरस्‍कार 2019 के लिए 23 लेखकों का चयन किया है। आज अगरतला में अकादमी के अध्‍यक्ष डॉ. चन्‍द्रशेखर काम्‍बर की अध्‍यक्षता में कार्यकारी बोर्ड की बैठक में पुरस्‍कार पाने वाले लोगों के चयन को स्‍वीकृति दी गई। केन्‍द्रीय पर्यटन तथा संस्‍कृति राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने पुरस्‍कार विजेताओं को बधाई दी है। पुरस्‍कार विजेताओं का चयन प्रत्‍येक भाषा में तीन सदस्‍यीय निर्णायक मंडलों द्वारा की गई सिफारिशों तथा निर्धारित नियमों और प्रक्रिया के आधार पर किया गया। प्रक्रिया के अनुसार कार्यकारी बोर्ड ने पुरस्‍कारों की घोषणा निर्णायक मंडल के सर्वसम्‍मत/बहुमत के आधार पर किया। मैथिली में पुरस्‍कार की घोषणा बाद में की जाएगी।
बाल साहित्‍य पुरस्‍कार के लिए पुरस्‍कार उन पुस्‍तकों से संबंधित हैं, जो पुरस्‍कार वर्ष के पहले के 5 वर्षों की अवधि में(यानी 1 जनवरी, 2013 तथा 31 दिसम्‍बर, 2017 के बीच) पहले प्रकाशित हुई हों। लेकिन प्रारंभिक 10 वर्षों के दौरान यानी 2010 से 2019 तक पुरस्‍कार एक लेखक को बाल साहित्‍य में उसके सम्‍पूर्ण योगदान के आधार पर दिया जा सकता है।
कविता की ग्‍यारह पुस्‍तकें, लघु कथा की छह पुस्‍तकें, पांच उपन्‍यास तथा एक साहित्‍य आलोचना की पुस्‍तक को साहित्‍य अकादमी युवा पुरस्‍कार 2019 प्राप्‍त हुए हैं। यह पुरस्‍कार उन पुस्‍तकों से संबंधित हैं, जिनका प्रकाशन पुरस्‍कार वर्ष की 1 जनवरी को 35 वर्ष या उससे कम आयु के लेखकों ने किया है।
बाद में एक समारोह में पुरस्‍कार मंजूषा रूप में अंकित ताम्र पट्टिका तथा 50 हजार रुपये का चैक विजेताओं को प्रदान किए जाएंगे।
हिलवार्ता साहित्य डेस्क
@ hillvarta.com