Breaking News

Big Breaking : लक्ष्य सेन India Open Badminton 2022 के फाइनल में पहुँचे, विश्व चेम्पियन लोह किन यू से होगा मुकाबला : पूरी खबर @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022 : पर्वतीय क्षेत्रों में कम लोग कर रहे मतदान, 2017 का ट्रेंड जारी रहा तो कई दलों का चुनावी गणित होगा प्रभावित, विशेष रिपोर्ट @हिलवार्ता विधानसभा चुनाव 2022: हलद्वानी में मेयर डॉ जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला ही होंगे भाजपा के खेवनहार, सूत्रों से खबर @हिलवार्ता पिथौरागढ़ : 11 माह पहले सेना भर्ती के लिए मेडिकल फिजिकल पास कर चुके युवा लिखित परीक्षा न होने से परेशान, पूर्व सैनिक संगठन से मिले कहा प्लीज हेल्प, खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : विधानसभा चुनाव नामांकन में 15 दिन शेष, समर्थक बेचैन, उम्मीदवारों का पता नहीं, सीमित समय में चुनावी कैम्पेन से असल मुद्दों के गायब होने का अंदेशा,क्यों और कैसे, पढिये@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

 

रुद्रपुर। नगर निगम सभागार में युवा कवि डॉ. जयंत साह की शोधपरक पुस्तक ‘गीतांजलि और छायावाद तुलनात्मक-अध्ययन’ का विमोचन प्रसिद्ध साहित्यकार और भारतीय ज्ञानपीठ के पूर्व निदेशक डॉ. लीलाधर मंडलोई, चर्चित कवि मदन कश्यप, कवि कस्तूरीलाल तागरा और शंकर चक्रवर्ती द्वारा सम्पन्न किया गया। किताब को ‘समय साक्ष्य’ देहरादून की प्रकाशन संस्था ने प्रकाशित की है जिस पर कई दृष्टिकोण से व्यापक परिचर्चा हुई।

मुख्य अतिथि लीलाधर मंडलोई ने हिंदी साहित्य की महत्वपूर्ण कड़ी छायावाद पर अपना वक्तय देते हुए कहा किप्रकृति, प्रेम और स्वयं को जानना ही छायावाद है- मंडलोई ने कहा कि प्रेम, दर्शन, सौंदर्य और स्वयं की अनुभूति के परिणामस्वरूप ही हिंदी साहित्य के आधुनिक युग में छायावाद का उदय हुआ। मनुष्यता, प्रकृति चित्रण, प्रेम और नारी चित्रण के साथ छायावाद की एक बड़ी विशेषता रहस्यवाद भी है। चूंकि मनुष्य, सृष्टि और इनको संचालित करने वाली परम सत्ता भी अपने आप में एक रहस्य है। अतः इस युग के कवियों ने अपनी कोमल अभिव्यक्तियाँ और उद्गारों को प्रतीकों एवं बिम्बों के माध्यम प्रस्तुत किया। इन सबके केंद्र में मनुष्यता सर्वोच्च थी। जयशंकर प्रसाद, निराला, महादेवी वर्मा और सुमित्रानंदन पन्त हिंदी साहित्य के इस कालखंड के प्रमुख कवि थे। अपने वक्तव्य में मंडलोई जी ने रवींद्रनाथ टैगोर, गीतांजलि, और नवजागरण को भी रेखांकित किया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ कवि मदन कश्यप ने कहा कि टैगोर जी की कालजयी कृति ‘गीतांजलि’ 1913 में जब प्रतिष्ठित नोबल पुरस्कार से सम्मानित हुई तो यह टैगोर की आत्म-सरल अभिव्यक्ति, उनकी व्यापक दृष्टि, मानवता एवं साहित्य के वास्तविक उद्देश्य का सम्मान था। स्वाभाविक है कि इसका प्रभाव बाद के कवियों पर भी पड़ा। छायावाद के उदय का कारण भी यही है। इसकी परंपरा कबीर और उसके पहले के कवियों से प्रारम्भ होती है।

पुस्तक के लेखक डा जयंत शाह ने ‘गीतांजलि की पृष्ठभूमि और हिंदी काव्य आंदोलन छायावाद से उसकी समानता व विषमताओं पर विस्तृत से प्रकाश डाला। कवि-लेखक कस्तूरीलाल तागरा ने छायावाद की कोमल अभिव्यक्तियों को ‘सर्वे भवन्तु सुखिना’ से जोड़कर देखा और कहा कि मनुष्य,मनुष्यता और साहित्य का मूल भी यही है। कार्यक्रम में शंकर चक्रवर्ती और समय साक्ष्य प्रकाशन के प्रवीण भट्ट ने अपने विचार प्रस्तुत किए और प्रदीप रॉय द्वारा रवींद्र संगीत तथा काव्या जैन द्वारा काव्य की मनमोहक प्रस्तुति भी दी गई।

इस अवसर पर कथाकार गंभीर सिंह पालनी, पलाश विश्वास, खेमकरण ‘सोमन’, उत्तम दत्ता, समीर रॉय, मनोज रॉय, नारायण महाजन, मोहन उपाध्याय, विकास सरकार, संजय श्रीनेत, हेम पन्त, संदीप सिंह, उषा टम्टा, ललित तिवारी, अनिमेष और सबाहत हुसैन खान, डॉ. जगदीशचंद्र ‘कुमुद’ और सुरेंद्र जैन आदि कवि-लेखक उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन आकाशवाणी दिल्ली के सहायक निदेशक जैनेंद्र सिंह द्वारा किया गया।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments