Breaking News

Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता Special Report : राज्य में वनाग्नि के अठारह सौ से अधिक मामले, करोड़ों की वन संपदा खाक,राज्य में वनाग्नि पर वरिष्ठ पत्रकार प्रयाग पांडे की विस्तृत रिपोर्ट @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

पिथौरागढ, 23 जून। पिथौरागढ़ से तवाघाट मोटर मार्ग में बी.आर.ओ. रेता बजरी की जगह मिट्टी में सिमेंट मिलाकर दीवार बना रही है. किलो मीटर तीस पर कर रहे मजदूर बीआरओ के मातहत काम कर रहे हैं

भाजपा नेता जगत मर्तोलिया ने बताया कि आज तवाघाट के पास से पिथौरागढ़ जाते हुए जब उन्होंने बीआरओ के काम को देखा वह भौचक्के रह गए यहां रेता की जगह मिट्टी में सीमेंट मिलाकर तगार बनाई जा रही थी जिसकी फ़ोटो उन्होंने ली और कहा है कि इस बाबत वह बी.आर.ओ. के डीजीपी व केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्री से मुलाकात करेंगे और पूरी बात उनको कही जायेगी.

जगत मर्तोलिया ने आरोप लगाते हुए बताया कि बी.आर.ओ.के अधीन चल रहे सभी मोटर मार्गो में इसी तरह काम किया जा रहा है.जहाँ जहाँ भी दीवार,पुल,आर.सी.सी,नालियों के जो निर्माण हुए है, वे कभी भी ढह,बह सकते है जिसकी उच्च स्तरीय जांच की जानी चाहिए उन्होंने कहा कि घटिया निर्माण की वजह इन सड़कों का एक बरसात चलना मुश्किल है सड़क दुर्घटना हो सकती है जिसकी जिम्मेदारी विभाग के अधिकारियों के ऊपर डाली जानी चाहिए.

उत्तराखंड में पिछले दो दशक से बनी अधिकतर सड़कों का लगभग यही हाल है लोनिवि द्वारा भी टनकपुर पिथौरागढ़ मार्ग में भी घटिया निर्माण के आरोप लगते रहे हैं आल वेदर रोड बनाने वाली कंपनी पर भी आरोप है कई जगह सड़क खोद कर रिटेनिंग वाल तक नहीं बनाई गई है जिससे इस बरसात सड़क ध्वस्त होने से यातायात बाधित होने की पूरी सम्भवना बनी हुई है,सरकारों की बेरुखी और अनदेखी के चलते घटिया सड़क निर्माण की सुनवाई तो होती ही नही कभी रेंडम चेकिंग तक नहीं होती है ।
हिलवार्ता न्यूज डेस्क
@ hillvarta. com