Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

पर्वतीय क्षेत्रों में विकास प्राधिकरण के खिलाफ आवाजें तेज होते जा रही हैं आज अलमोड़ा नगरपालिका अध्यक्ष एवं सर्वपक्षीय संघर्ष समिति के श्री प्रकाश जोशी,प्राधिकरण विरोधी मोर्चा पिथौरागढ़ के मोहन भट्ट,और प्राधिकरण हटाओ मोर्चा बागेश्वर के प्रमोद मेहता,पंकज पांडे ने अलग अलग पत्र विधायक बागेश्वर एवम सभापति प्राधिकरण समिति उत्तराखंड को लिखा है

पिथौरागढ़ में प्राधिकरण विरोधी संघर्ष समिति और बागेश्वर में प्राधिकरण हटाओ मोर्चा और सर्वपक्षीय संघर्ष समिति ने सरकार को पत्र लिखकर यह जताने की कोशिश की है कि अगर उनकी न्यायसंगत मांग नहीं मानी गई तो संयुक्त रूप से पर्वतीय जिलों में आंदोलन तेज किया जाएगा.
अलमोड़ा बागेश्वर पिथौरागढ़ चंपावत में भी प्राधिकरण के खिलाफ विरोध मुखर हो रहा है पिथौरागढ़ में लगातार सरकार से प्राधिकरण हटाने की मांग को लोगों का समर्थन मिल रहा है वहीं बागेश्वर में भी प्राधिकरण हटाओं अभियान को भारी समर्थन मिलने की खबर है बागेश्वर में पिछले पखवाड़े स्थानीय व्यक्ति द्वारा आत्महत्या के लिए प्राधिकरण को जिम्मेदार ठहराए जाने के बाद स्थानीय आंदोलन और मुखर हो चला है.

अलमोड़ा नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश जोशी ने पत्र में इस बात का जिक्र किया है कि स्थानीय लोगों को प्राधिकरण के कारण तमाम समस्याओं का सामना करना ही पड़ रहा है साथ ही इसके लागू होने के बाद निकायों की आर्थिक स्थिति खराब भी हो रही है साथ ही उन्होंने कहा है कि प्राधिकरण को जबरदस्ती थोपने से पहले सरकार को पर्वतीय क्षेत्रों की भौगोलिक परिस्थितियों का ध्यान रखना चाहिए था, ज्ञात रहे कि 22 फरवरी 2018 से अलमोड़ा में सर्व पक्षीय संघर्ष समिति आंदोलनरत है कमोबेस पिथौरागढ़ बागेश्वर के पक्षों की भी यही दलीलें हैं.
पिथौरागढ़ से प्राधिकरण विरोधी संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले आंदोलन कर रही है स्थानीय रामलीला मैदान में समिति के कार्यकर्ता लगातार धरना प्रदर्शन से सरकार को चेता रहे हैं समिति अध्यक्ष मोहन चंद्र भट्ट ने कहा है कि प्राधिकरण समाप्त किये जाने तक संघर्ष जारी रखेंगे,इसी वजह विधायक चंदन राम दास को आज प्राधिकरण समाप्त किये जाने के संदर्भ में पत्र लिखा है.समिति सरकार का रुख देखेगी तत्पश्चात अगला कार्यक्रम तय होगा.

इसी तरह बागेश्वर में प्राधिकरण हटाओ मोर्चा विरोध को स्वर दे रहा है मोर्चा के अध्यक्ष प्रमोद मेहता और सचिव पंकज पांडे ने भी इसी तरह का पत्र प्राधिकरण समिति के सभापति /विधायक बागेश्वर श्री चंदन राम दास को लिखा है और जल्द पर्वतीय जिलों में लागू प्राधिकरण को हटाने की मांग की है.
हिलवार्ता न्यूज डेस्क
@hillvarta.com

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता