Breaking News

Big breaking:2023 के बाद Johnson & Johnson टेल्क पाउडर होगा बाजारों से गायब, पाउडर में कैंसर के लिए जिम्मेदार अवयव मिलने के बाद भरना पड़ा भारी जुर्माना,पूरी खबर पढिये@हिलवार्ता Good initiative : रामनगर स्थित public school ने उत्तराखंड के आजादी के नायकों की फ़ोटो गैलरी बनाकर की मिशाल कायम,खबर विस्तार से@हिलवार्ता Big Breaking: उत्तराखंड के लाल लक्ष्य सेन ने commenwealth games का स्वर्ण पदक जीत रचा इतिहास,पूरी खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : दुखद खबर: उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष हरीश पाठक का निधन, पूरी जानकारी @हिलवार्ता Haldwani धरना अपडेट :सिटी मजिस्ट्रेट का आश्वासन, एक हप्ते में होगा समाधान ,जलभराव से निजात के लिए चल रहा धरना स्थगित,विधायक भी पहुँचे धरनास्थल,खबर@ हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

राज्य निर्माण के 21 साल दर्जनों इधर से उधर । राज्य में एक दर्जन के करीब मुख्यमंत्री, सैकड़ों मंत्री राज्यमंत्री विधायक और न जाने कितने लालबत्ती धारक । यही उत्तराखंड की परिणति बन चुका है ।

राज्य में हर चुनाव में दो चार इधर उधर नही हुए तो पता नही चुनाव सा लगता ही नहीं है। शाम होते होते खबर आई कि हरक सिंह रावत फिर नाराज हैं मामला इस बार पुत्र वधु को टिकट का बताया जा रहा है । एक पखवाड़े पहले हरक सिंह की रोने धोने का वीडियो सामने आया जिसमे वह सिसकी मारते हुए खुद को भाजपा में अपमानित समझ रहे थे और मांग कर रहे थे कि उनकी सुनी जाए उन्हें कोटद्वार में मेडिकल कालेज चाहिए आदि आदि । फिर पार्टी की तरफ से डेमेज कंट्रोल हुआ मुख्यमंत्री धामी और उनकी मुलाकात का हसी के ठहाके के साथ वीडियो रिलीज हुआ लगा सब ठीक ठाक है ।

इधर हलद्वानी में पीएम की रैली में मोदी जा जयकारा सबसे ज्यादा हरक सिंह ने ही लगाया माना जा रहा था कि सीएम ने डेमेज कंट्रोल कर लिया है । लेकिन आज दुबारा हुए ड्रामे ने 2022 की नई कहानी गढ़ ली है वही कहानी जो आज से पांच साल पहले कांग्रेस में रहते हुए हरक सिंह ने लिखी थी और भाजपा ने हाथोंहाथ लपक ली थी ।

बताया जा रहा है कि दिल्ली पहुचे हरक को कांग्रेस ने मांन ली है और उनकी पुत्रवधु को टिकट मिल जाएगा । इधर खबर की जानकारी मिलते ही कल तक निश्चिन्त बैठी भाजपा ने हरक को कैबिनेट और पार्टी से बाहर कर दिया है । जिसकी पुष्टि होने का इंतजार है ।

यही हाल कांग्रेस का है यहां दो दिन पहले ही कांग्रेस अपने पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय को बाहर का रास्ता दिखा चुकी है जबकि उसकी महिला प्रदेश अध्यक्ष के बगावती तेवर वाली तस्वीरे और वीडिया वॉयरल हैं कि वह टिकट मिलने पर भाजपा में जा सकती हैं ।
कुछ  माह पूर्व सूबे के पूर्व कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य अपने विधायक बेटे संग भाजपा को बाई बाई कर कांग्रेस में लौट चुके हैं । सूत्र बताते हैं कि टिकटों को लेकर चल रही रस्साकस्सी अभी कइयों को इधर उधर जाने का रास्ता तैयार करेगी ।

नवोदित राज्य में स्थिर सरकार की पैरवी करने वाले दोनों राष्ट्रीय दलों में विगत 20 साल में एक दर्जन मुख्यमंत्री होना अवसरवादी राजनीति का जीता जागता उदाहरण है यहां दलों की छोड़िए संगठन के भीतर भीतरघात है । जिसकी भरपाई किसी न किसी रूप में राज्य की जनता भुगत रही है । राज्य की माली हालत जगजाहिर है । कर्जे के भार से दबा राज्य नेताओं की महत्वाकांशा का शिकार है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments