Breaking News

Doctor,s Day 1st july 2022 special report:”अग्रिम मोर्चे पर फैमिली डॉक्टर,थीम के साथ Doctor,s Day सेलिब्रेशन आज. डॉ एन एस बिष्ट का विशेष आलेख पढिये @हिलवार्ता Dehradun : धामी सरकार के 100 दिन पूरे, शिक्षा मित्र और अतिथि शिक्षकों का मानदेय बढ़ा,खबर@हिलवार्ता Uttrakhand:हिमांचल की तर्ज पर राज्य में ग्रीन सेस लगाए जाने की जरूरत, बेतहासा पर्यटक,धार्मिक टूरिस्म प्राकृतिक संसाधनों पर भारी,पढ़ें@हिलवार्ता Haldwani : प्रसिद्ध लोक साहित्यकार स्व मथुरा दत्त मठपाल स्मृति दो दिवसीय कार्यशाला 29-30 जून एमबीपीजी में,100 कुमाउँनी कवियों के कविता संग्रह का होगा विमोचन, खबर@हिलवार्ता Uttrakhand : मानसून ने दी दस्तक, राज्य के मैदानी क्षेत्रों में हल्की बारिश के बाद तापमान में गिरावट, मुनस्यारी ने तेज बारिश के बाद सड़क यातायात प्रभावित,खबर@हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

गर्मियों की छुट्टियां चल रही हैं इस बीच कुछ बच्चे गर्मियों की छुट्टियों में घूमने निकल जाते हैं तरह तरह की बातें सैर सपाटे में सीखने देखने जानने की बहुत सारी बातें होती है जो उनके जीवनपर्यंत काम आती हैं,घूमना फिरना हमेशा बेहतरीन आदत है नियमित बोझिल पढ़ाई से इतर बहुत चीजे दैनिक जीवन के लिए आवश्यक है इसके अलावा वह काम हमेशा अच्छा है जो बच्चों में खुशी का एहसास दिलाये,ऐसा ही एक विषय है ट्रिक्स के माध्यम से विज्ञान सीखना.इससे बच्चों में शाररिक मानसिक विकास की संभावनाएं बढ़ जाती हैं, जो बच्चे घूमने फिरने नहीं गए उन्हें अच्छी अच्छी ज्ञानवर्धक मूवी देखना भी अच्छा है अभी छुट्टी का आधा महीना बचा है जिन्होंने अपने इन कामो को पूर्ण कर लिया है अब उनके लिए मजे मजे में और मस्ती वाली जिम्मेदारी दी जा रही है निसंदेह बच्चों को इसे करने के बाद आंनद आएगा.
बाल विज्ञान खोजशाला बच्चों को हमेशा क्रिएटिविटी से जोड़ने की मुहिम चलाते रहती है,
आज खोजशाला के इंचार्ज विज्ञान प्रोमोटर आशुतोष उपाध्याय ने एक पोस्टर जारी कर क्या कहा है आइये इस बारिश कुछ नया करें.

Dorling Kindersley

अभी बरसात का मौसम शुरू होने वाला है. क्या ही अच्छा होगा अगर हम बच्चों से अपने-अपने इलाके में होने वाली बारिश का रिकॉर्ड रखने को कहें. इसके लिए आपको ‘वर्षामापी’ पर एक मजेदार कार्ड भेजा जा रहा है. इसमें बोतल से वर्षामापी बनाने का आसान तरीका दिया हुआ है और साथ में बादलों की पहचान कराने वाली कुछ बातें भी.
अपने सेंटर में या टारगेट स्कूल में बच्चों से वर्षामापी बनवाकर किसी जगह स्थापित करवाएं और हर दिन की वर्षा की माप नोट करने को कहें. बरसात ख़त्म होने के बाद बच्चे अपने इलाके की औसत वर्षा की गणना भी कर सकते हैं.
हिलवार्ता साइंस डेस्क
@ hillvarta. com