Breaking News

Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता Special Report : राज्य में वनाग्नि के अठारह सौ से अधिक मामले, करोड़ों की वन संपदा खाक,राज्य में वनाग्नि पर वरिष्ठ पत्रकार प्रयाग पांडे की विस्तृत रिपोर्ट @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

एग्जिट पोल्स के मुताबिक दिल्ली में आम आदमी पार्टी दुबारा सत्ता में लौट रही है अधिकतर एग्जिट पोल्स ने आम आदमी पार्टी के पक्ष में आंकड़े प्रस्तुत किये हैं

सुदर्शन न्यूज़– आप 40-45। भाजपा 24-28। कांग्रेस 2-3 ।

टाइम्स नाउ इप्सोस — आप 44 भाजपा 26 कांग्रेस 0 ।

एबीपी न्यूज़ सी वोटर -आप 49-63 । भाजपा 5-19 कांग्रेस 0-4

टीवी 9 भारतवर्ष – आप 54। भाजपा 15 कांग्रेस 1 ।

रिपब्लिक टीवी-जन की बात– आप 48-61 भाजपा 9-21 कांग्रेस 0-1

इंडिया न्यूज -नेता आप– 53-57 भाजपा 11-17 कांग्रेस 0-2

दिल्ली विधानसभा चुनाव में आज मतदान समाप्त होने तक लगभग 55 प्रतिशत मतदान हुआ है आम आदमी पार्टी भाजपा कांग्रेस सहित कुल 672 उम्मीदवार अपनी किस्मत को ईवीएम में कैद करा चुके हैं 11 फरवरी के दिन यह तय हो जाएगा कि दिल्ली की कुर्सी के लिए जनता ने किसके पक्ष में कितना भरोसा किया यहै और किसे कुर्सी सौप भरोसा जताया है


देश की नजरें दिल्ली चुनाव पर टिकी है दिल्ली में भाजपा ने जहां राष्ट्रीय मुद्दों सहित सी ए ए को मुद्दा बनाया वहीं केजरीवाल ने स्वास्थ्य शिक्षा को चुनावी मुद्दा बनाया तीसरे नंबर पर मानी जा रही कांग्रेस ने शीला दीक्षित सहित अपने समय मे दिल्ली के विकास की बातों से आमजन को रिझाने की कोशिश की ।


2015 में अप्रत्याशित तरीके से केजरीवाल ने 70 विधानसभा सीटों पर कब्जा कर भाजपा को 3 विधानसभाओं तक सीमित कर दिया था और कांग्रेस को खाता तक नही खुलवाने दिया 2020 में भाजपा कांग्रेस के लिए अपने प्रदर्शन को सुधारने की चुनौती मिली वहीं आम आदमी पार्टी को अपने खेमे में 2015 की तरह की जीत के आसपास ही रहने की चुनौती ।

बहरहाल केजरीवाल की वापसी साफ दिखाई दे रही है असल परिणाम क्या हैं 11 फरवरी तक इंतजार करना होगा ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क

@हिलवार्ता.कॉम