Breaking News

बड़ी खबर : पीएम की रैली कल देहरादून में, राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा अगर उत्तराखंड से वाकई प्रधानमंत्री को है प्यार, विशेष राज्य का दर्जा लौटाएं कल, और भी हैं मांग ,पढिये @हिलवार्ता उत्तराखंड : कोविड के बढ़ते मामलों के बीच टीकाकरण की स्थिति पर एसडीसी की विस्तृत रिपोर्ट पढ़िए @हिलवार्ता उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी में शिक्षक कर्मचारी मुख्य गेट बंद करने से भड़के, कहा विश्वविद्यालय है कैद खाना नही, नाराज शिक्षक कर्मचारियों ने की नारेबाजी, खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : सुप्रसिद्ध गायक नरेंद्र सिंह नेगी,अब डॉ नरेंद्र सिंह नेगी, हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा, खबर @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड : सूबे में 2022 चुनावों से पहले कर्मचारियों की नाराजगी सतारुढ़ भाजपा के लिए दिक्कत पैदा कर सकती है । हालांकि 70 दिन से चली आ रही उपनल सहित कुछ संगठनों से सरकार हड़ताल वापस कराने में सफल हुई है । अभी भी ओपीएस पुरानी पेंशन का मसला बड़ा मुद्दा बनकर उभरा है । वहीं परिवहन मिनिस्टीरियल संघ का पदोन्नति को लेकर कार्यबहिष्कार जारी है । इधर संविदा में कार्यरत कनिष्ठ अभियंता भी तीन दिवसीय हड़ताल पर हैं ।

सूत्रों के अनुसार कर्मचारी संगठन सरकार की हीलाहवाली से नाराज हैं जिसका असर चुनावों में पड़ सकता है । उधर सरकार चुनावी साल में किसी भी कर्मचारी संगठन से नाराजगी मोल नही लेना चाहेगी । कैसे भी कर्मचारीयों को भरोसा दिलाया जा रहा है कि उनकी मांगों पर विचार किया जा रहा है । उपनल कर्मचारियों और पुलिस कर्मियों के आंदोलन को शांत करने के लिए हलद्वानी और देहरादून में सीएम के प्रतिनिधि को धरना स्थल पहुचकर आश्वासन देना पड़ा है । लेकिन अभी भी कई संगठन आंदोलन की राह पर हैं ।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर : पीएम की रैली कल देहरादून में, राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा अगर उत्तराखंड से वाकई प्रधानमंत्री को है प्यार, विशेष राज्य का दर्जा लौटाएं कल, और भी हैं मांग ,पढिये @हिलवार्ता

ओपीएस सबसे बड़ा मुद्दा है  जिसमे 2005 के बाद नियुक्त सभी कर्मचारी शामिल हैं । ओपीएस का मामला सुप्रीम कोर्ट से कमर्चारियों के पक्ष में हुआ है । लेकिन वावजूद इसके सरकारें इसे टालती रही हैं । कर्मचारी भी एन चुनाव से पूर्व इस मामले को लेकर मुखर हो गए हैं । प्रदेश भर के ओपीएस के समर्थन में कर्मचारी देहरादून में बड़ा प्रदर्शन कर चुके हैं ।  सरकार असमंजस में हैं ओपीएस  लागू करना दूर इस मुद्दे पर हामी भरना भी मुश्किल पड़ रहा है ।

यह भी पढ़ें 👉 

सरकार के सामने वित्तीय संकट है पहले से कर्ज लेकर चल रहा राज्य इतनी बड़ी संख्या में कर्मचारियों की मांगों पर कैसे निर्णय करे यह समस्या बनी हुई है । इधर विपक्षी भी चाहते हैं कि सरकार के ऊपर संगठनों का दबाव जारी रहे जिसके लिए विपक्षी नेता कर्मचारियों के आंदोलनों में पहुच भी रहे हैं ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : सुप्रसिद्ध गायक नरेंद्र सिंह नेगी,अब डॉ नरेंद्र सिंह नेगी, हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा, खबर @हिलवार्ता

कुल मिलाकर कर्मचारियों की मांगों पर निर्णय करने में उसके पसीने छूटना तय है । आगे क्या होगा कर्मचारी मानेंगे कि नही यह समय बताएगा लेकिन चुनाव से ठीक पहले ओपीएस सरकार के लिए भारी मुसीबत बन कर उभर रहा है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

, , , ,
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments