Breaking News

बड़ी खबर : पीएम की रैली कल देहरादून में, राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा अगर उत्तराखंड से वाकई प्रधानमंत्री को है प्यार, विशेष राज्य का दर्जा लौटाएं कल, और भी हैं मांग ,पढिये @हिलवार्ता उत्तराखंड : कोविड के बढ़ते मामलों के बीच टीकाकरण की स्थिति पर एसडीसी की विस्तृत रिपोर्ट पढ़िए @हिलवार्ता उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी में शिक्षक कर्मचारी मुख्य गेट बंद करने से भड़के, कहा विश्वविद्यालय है कैद खाना नही, नाराज शिक्षक कर्मचारियों ने की नारेबाजी, खबर@हिलवार्ता उत्तराखंड : सुप्रसिद्ध गायक नरेंद्र सिंह नेगी,अब डॉ नरेंद्र सिंह नेगी, हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा, खबर @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन ने हालिया उत्तराखंड स्थित सभी विश्वविद्यालयों में हुई नियुक्तियों की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है । संगठन ने आरोप लगाया है कि ओपन यूनिवर्सिटी टेक्निकल यूनिवर्सिटी सहित कुमायूँ और अलमोड़ा विश्वविद्यालय में हुई नियुक्तियों की जांच हो । संगठन ने कहा है कि प्रदेश के विश्वविद्यालयों में जब कुलपतियों की नियुक्ति मानकों के अनुरूप नही है तो अन्य अधिकांश नियुक्तियां गलत होना स्वाभाविक है । लिहाजा इसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए ।

 

इधर इसी क्रम में एनएसयूआई ने अलमोड़ा विश्वविद्यालय के कुलपति को हटाने के लिए धरना प्रदर्शन किया है । संगठन के राष्ट्रीय संयोजक व उत्तराखंड प्रदेश संगठन महामंत्री ने आरोप लगाया है कि सत्ता के संरक्षण में सोभन सिंह जीना विश्वविद्यालय अलमोड़ा के कुलपति हाईकोर्ट नैनीताल के निर्देश के वावजूद पद पर बने हुए हैं ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी में शिक्षक कर्मचारी मुख्य गेट बंद करने से भड़के, कहा विश्वविद्यालय है कैद खाना नही, नाराज शिक्षक कर्मचारियों ने की नारेबाजी, खबर@हिलवार्ता

छात्र नेता गोपाल भट्ट ने कहा कि उच्च न्यायालय के आदेश का पालन नही करना और सरकार का मूकदर्शक बना रहना लोकतांत्रिक मूल्यों पर प्रहार है । उन्होंने कहा कि सरकार शिक्षा का बाजारीकरण करने पर तुली है जिसकी वजह अलमोड़ा परिसर को राजनीति का अखाड़ा बना दिया गया है । उन्होंने सेल्फ फाइनेंस को अविलंब बन्द करने की मांग की है और कहा है कि कतिपय प्रोफेसरों की मनमानी की वजह पर्वतीय गरीब छात्रों की जेब काटी जा रही है ।

जिसकी खिलाफत जारी रहेगी । छात्रों की मांगों में मुख्य बातें सेल्फ फाइनेंस के छात्रों को सामान्य प्रकिया से प्रवेश दिया जाए तथा जिन छात्रों का प्रवेश सेल्फ फाइनेंस के माध्यम से किया है उनकी फीस वापस की जाने, विभागों में भी चल रहे सेल्फ फाइनेंस कोर्स बन्द किया जाने सहित सामान्य सीटे बढ़ाई जाने को लेकर है । इसके अलावा छात्रसंघ चुनाव की तिथि जल्द सुनिश्चित की जाने, विभिन्न पाठ्क्रमों के छात्रों के परीक्षाफल जल्द से जल्द घोषित करने,विश्वविद्यालय बनने के पश्चात विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा किए गये विभिन्न विभागों में नियुक्तियों व निर्माण कार्यो की उच्च स्तरीय जांच कमेटी द्वारा कराये जाने की मांग शामिल है ।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर : पीएम की रैली कल देहरादून में, राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा अगर उत्तराखंड से वाकई प्रधानमंत्री को है प्यार, विशेष राज्य का दर्जा लौटाएं कल, और भी हैं मांग ,पढिये @हिलवार्ता

छात्रनेताओं ने एक सप्ताह बाद अनिश्चितकालीन धरना व उग्र आन्दोलन की चेतावनी दी है छात्रों ने छात्र हित मे उच्च न्यायालय रिट पिटिशन दायर करने की भी बात की है । धरना प्रदर्शन में अशोक सिंह पूर्व उपाध्यक्ष अलमोड़ा विश्वविद्यालय गोपाल भट्ट एनएसयूआई प्रदेश महामंत्री छात्र नेता संजू सिंह गोविंद प्रसाद पंकज कुमार ब्लॉक अध्यक्ष रोहित भट्ट जिला सचिव हिमांशु जोशी गौरव भट्ट पंकज गुरुरानी,नीरज चिलवाल कार्तिक कनवाल आदि उपस्थित रहे ।

यह भी पढ़ें 👉 

इधर उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी में भी कुलपति की पावर सीमित होने के वावजूद नियुक्ति प्रकिर्या पर सवाल उठ रहे हैं । ओपन यूनिवर्सिटी के कुलपति का कार्यकाल फरवरी 2022 में समाप्त हो रहा है नियमानुसार तीन माह पूर्व कुलपति की पॉवर सीज यानी नीतिगत निर्णय लेने की कुलपति की पॉवर पर रोक लग जाती है । वावजूद इसके विश्वविद्यालय में नियुक्ति प्रक्रिया करवाए जाने की बात सामने आई है । विश्वविद्यालय की तरफ से हालांकि सफाई दी गई है कि प्रकिर्या कुलपति की पॉवर सीज से पहले का है ।

हिलवार्ता न्यूज डेस्क 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments