Breaking News

Big Breaking : गुरुग्राम में हुई सीए की गिरफ्तारी के विरोध में हलद्वानी के चार्टर्ड अकाउंटेंट मुखर,सीबीआइसी को ज्ञापन सौंपा,जीएसटी रिफण्ड का है मामला,पढ़े @हिलवार्ता Uttarakhand : पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले उमेश डोभाल पुरस्कारों की घोषणा हुई,शोसल,इलेक्ट्रॉनिक,और प्रिंट मीडिया लिए चयनित हुए चार नाम,खबर @हिलवार्ता Special report : देहरादून के दो युवाओं ने बना दिया एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो देगा अंतरराष्ट्रीय सॉफ्टवेयर को टक्कर ,खबर @हिलवार्ता चंपावत उपचुनाव : पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत सीट से अपना पर्चा दाखिल किया, सुबह खटीमा में पूजा अर्चना के बाद पहुचे चंपावत खबर @हिलवार्ता Ramnagar : साहित्य अकादमी पुरस्कार से अलंकृत दुधबोली के रचयिता मथुरा दत्त मठपाल की पहली पुण्यतिथि पर जुटे साहित्यकार, कल होगी दुधबोली पर चर्चा,खबर @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

बड़ी खबर : वर्षों से मल्टी लेवल मार्केटिंग में शामिल(Amway India) एमवे इंडिया पर प्रवर्तन निदेशालय ने बड़ी कार्यवाही की है । ईडी ने कम्पनी की 757.77 करोड़ रुपये की सम्पति जब्त कर ली है ।

आइये जानते हैं मल्टीलेवल मार्केटिंग(MLM) के बारे में .. दरअसल यह ऐसा बिजनेस है जहां अपने परिवार और दोस्तों को कोई उत्पाद बेचकर अन्य को भी इसमें शामिल करना या ऐसा ही करने के लिए प्रोत्साहित करना है इस कार्य मे एक को दूसरे से दूसरे से तीसरे को जोड़ा जाता है । जिसे डायरेक्ट मार्केटिंग नाम दिया गया है । आरोप है कि Amaway का पूरा बिजनेस प्लान इस प्रचार पर आधारित था कि किस तरह लोग उनके सदस्य बनकर अमीर हो सकते हैं । बताया जा रहा है कि इस मल्टीलेवल मार्केटिंग पिरामिड को छुपाने के लिए उत्पादों का सहारा लिया जाता है ।

जानकारी के अनुसार यह भी ज्ञात हुआ है कि Amway के प्रोडक्ट ऊंचे दामों पर बेचे जाते थे जबकि अन्य कंपनियों के वैसे ही उत्पाद सस्ते थे । यहां यह भी पता चला है कि अमीर बनने के चक्कर मे सदस्यों को अपनी जरूरत से ज्यादा सामन खरीदना पड़ रहा था । जांच में यह बात सामने आई है कि कंपनी के प्रमुख सदस्यों को उत्पादों की बिक्री का बेतहाशा कमीशन मिलता था । बताया जा रहा है कि इस पिरामिड बिजनेस से कंपनी को 20 साल में 27,562 करोड़ की आय हुई । यह भी कि कुल 7,588 करोड़ रुपये का कमीशन कंपनी ने अपने डिस्ट्रीब्यूटरों को दिया ।

इधर Amway इंडिया ने कहा है कि ईडी की जांच साल 2011 की कार्यवाही की जांच के संबंध में थी और कंपनी जांच में पूरा सहयोग कर रही है । यह भी कि वह सहयोग में मांगी गई जानकारी साझा करती आई है ।
ज्ञात रहे कि इस तरह की मल्टीलेवल मार्केटिंग भारत मे कई कंपनियों द्वारा की जा रही है जहां एक पिरामिड बनाकर अपने उत्पाद बेचने के लिए सेमिनार,गेट टूगेदर पार्टी होना आम बात है ।

देश मे MLM के लिए कानून काफी लचर हैं जिसका फायदा बड़ी मार्केटिंग कंपनियां करती है । भारतीय कानूनों के अनुरूप मल्टीलेवल मार्केटिंग कंपनी Amway हालांकि बिगत दो दशक से देश मे व्यापार कर रही थी लेकिन यह जानकारी शेयर नही की गई है कि इतने लंबे समय तक कंपनी किस तरह साफ बची रही ।

ईडी ने बहरहाल बड़ी कार्यवाही की है यदि Amway ने धोखाधड़ी की है तो यह भी समझना होगा उसकी कार्यप्रणाली पर कानूनसम्मत कार्यवाही बड़ी देर से हुई है । जानकारी के अनुसार अभी भी भारत मे कई कंपनियों द्वारा इस बिजनेस मॉडल पर कार्य किया जा रहा है ।

हिलवार्ता न्यूज 

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments