Breaking News

उत्तराखंड: विजयादशमी में रावण का पुतला दहन, हल्द्वानी में कोविड 19 के डर के वावजूद हजारों पहुचे रामलीला मैदान,पूरा लाइव देखिये @हिलवार्ता दुख भरी खबर : जम्मू में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद, जम्मू के मेडर में सोमवार से सेना का ऑपरेशन जारी,पूरी खबर@हिलवार्ता हल्द्वानी से बागेश्वर,चंपावत-पिथौरागढ़ जाने वाले यात्री कृपया ध्यान दें,आज से (16 अक्तूबर ) वाया रानीबाग रूट 25 अक्टुबर तक बंद रहेगा,पूरी जानकारी@हिलवार्ता उत्तराखंड : काम की खबर : पंतनगर विश्वविद्यालय और एपीडा में कृषि उत्पादों के उत्पादन, निर्यात के लिए हुआ समझौता,विस्तार से पढ़िए @हिलवार्ता नई शिक्षा नीति 2020 के तहत राज्यों में एक अक्टूबर से शुरू हुआ निष्ठा प्रशिक्षण, यूजीसी द्वारा संचालित टीचर्स ओरिएंटेशन रिफ्रेशर कोर्स की तरह है निष्ठा.आइये समझते हैं @हिलवार्ता
ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी रामलीला कमेटी में घोटाले की जांच के आदेश को ठंडे बस्ते में डाल ट्रस्ट बनाने की सुगबुगाहट के बाद मामला डीएम दरबार पहुच गया है .11 जुलाई को एसडीएम के माध्यम से ज्ञापन देने के बाद आज कमेटी के पूर्व सदस्यों नगर निगम के आधा दर्जन सभासदो आजीवन सदस्यों सहित नगर के संस्कृति प्रेमी लोगों ने जिलाधिकारी सविन बंसल से हल्द्वानी स्थित कैम्प कार्यालय में मुलाकात कर पूरे वाकये से अवगत कराया.

बातचीत में वक्ताओं ने जिलाधिकारी से इस मामले में गहन जांच की आवश्यकत बताई कहा कि वर्ष 2016 के दौरान रामलीला कमेटी के हिसाब किताब में बड़ा घोटाला हुआ जिसकी शिकायत तत्कालीन प्रशासन को दी गई वकायदा आंदोलन हुआ,तत्कालीन जिलाधिकारी ने विवाद के निपटारे को सिटी मजिस्ट्रेट की अगुवाई में जांच के आदेश दिये और सिटी मजिस्ट्रेट को रामलीला कमेटी का रिसीवर नियुक्त कर दिया. जांच कमेटी में शामिल किए गए लोगों ने अवगत कराया कि उक्त समिति की एक बार बातचीत के अलावा कभी कोई मीटिंग ही नहीं बुलाई गई और तीन साल बाद आज भी मामला जस का तस है .

ज्ञापन देते हुए लोगों ने मांग की कि इस सप्ताह खबरों से उन्हें पता चला कि रामलीला कमेटी को ट्रस्ट बनाये जाने की कवायद शुरू की जा रही है उन्होंने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि अगर रामलीला कमेटी को ट्रस्ट बनाये जाने की कोशिस की गई तो कमेटी के घोटाले की असलियत कभी बाहर आ ही नहीं सकती .कमेटी के एक पूर्व सदस्य ने कहा कि घोटालेबाज और स्थानीय भूमाफिया कमेटी में घोटाले की जांच से बचने के लिए ही ट्रस्ट बनाने के लिए रिसीवर पर दबाव बनाए हुए हैं. राजनीति से इतर इस पूरे प्रकरण की जांच की मांग करते हुए डीएम से कहा कि कमेटी की अरबों की संपत्ति पर नजर गड़ाए लोग ट्रस्ट बन जाने से जांच से बचने का जुगाड़ बना रहे हैं, जिसकी वह आलोचना करते हैं. और मांग करते हैं कि 2016 से अटकी जांच पूरी कराई जाए और रिसीवर को आदेश दिया जाय कि जांच होने तक किसी तरह का बदलाव नहीं किया जाय. जिलाधिकारी सविन बंसल ने मुलाकातियों को आश्वस्त किया कि मामला उनके संज्ञान में आ गया है जिसकी वह जांच कराएंगे और इस मामले को अगले हप्ते फिर सुना जाएगा.
जिलाधिकारी से मुलाकात करने वालों में संतोष कबड़वाल संयोजक मदन मोहन जोशी सहसंयोजक सहित, हरीश आर्य,गोविंद बगडवाल आशीष दुमका,जीवन कार्की हुकुम सिंह कुँवर,विनोद कांडपाल, चन्द्र शेखर तिवारी,विशाल भारती, मंजू वार्ष्णेय रवि जोशी मुकुल बलुटिया राजेन्द्र जीना जगदीश पडियार,रवि नेगी,हिमांशु मेर, मनोज कविदयाल, गजेंद्र गौनिया ओम प्रकाश पांडे,जसविंदर भसीन, राजेन्द्र सिंह जीना,देवेंद्र मटियानी,रामकुमार ,कृष्णकुमार सहित चार दर्जन से अधिक लोग मौजूद थे.

संतोष कबड़वाल ने कहा है कि जिलाधिकारी से बातचीत सार्थक हुई है अगर उनकी मांगों पर समय से कार्यवाही नही की जाती है तब उनके पास बड़े आंदोलन पर जाने के शिवा कोई चारा नही है उन्होंने इस प्रकरण पर सभी वर्गों का समर्थन मिलने की बात की है.
अब गेंद जिलाधिकारी के पाले में है अभी नए आये डीएम को इस मामले को समझने और निर्णय लेने में समय जरूर लगेगा. लेकिन जिस तरह इस पूरे मामले में घोटाले को अनदेखा कर रामलीला कमेटी को ट्रस्ट बनाये जाने की कवायद हुई है इसकी जनहित में जांच होनी आवश्यक है .हिलवार्ता की इस प्रकरण पर नजर बनी रहेगी .
हिलवार्ता न्यूज डेस्क
@hillvarta. com